History Of Uttar Pradesh In Hindi – उत्तर प्रदेश की समस्त जानकारी

उत्तर प्रदेश, भूमि है मर्यादा पुरुषोत्तम राम की, जिन्होंने पिता वचन मानकर 14 वर्ष को बन में चले गये। जिन्होंने रावण जैसे अहंकारी का सर्वनाश कर धर्म की स्थापना की। यह गौतम बुद्ध की कर्मभूमि रही है।

जहाँ उन्होंने बनारस के सारनाथ में अपना पहला धार्मिक प्रवचन दिया था। यह भूमि भगवान श्री कृष्ण की हैं जिन्होंने कंश जैसे दुराचारी का बिनाश किया। उन्होंने धर्म की स्थापना करते हुए गीता का उपदेश देकर

आत्मा और परमात्मा जैसे दुरूह विषय पर से प्रदा उठाया। यह तपोभूमि रही है ऋषि गौतम की, वशिष्ट, विश्वामित्र और बाल्मीकि की। रामायण और महाभारत की कथा इसी क्षेत्र के परिपेक्ष में रची गयी है।

दुनियाँ क सातवाँ आश्चर्य ताजमहल इसी राज्य में स्थित है। जहाँ दुनियाँ के हर कोने से लोग एक झलक पाने के लिए आते हैं।

History Of Uttar Pradesh In Hindi - उत्तर प्रदेश का इतिहास
ताजमहल (History Of Uttar Pradesh In Hindi )/Image by nonmisvegliate from Pixabay

इस प्रकार कई ऐतिहासिक स्थलों को अपने में सँजोये उत्तर प्रदेश भारत का एक प्रमुख राज्य है। यह प्रदेश जनसंख्या की दृष्टिकोण से भारत का सबसे बड़ा राज्य largest state of India है। चलिये इस राज्य के बारें में जानते हैं विस्तार से :-

उत्तर प्रदेश एक झलक History Of Uttar Pradesh In Hindi /history of up in hindi

  • नाम – उत्तर प्रदेश
  • राजधानी – लखनऊ
  • स्थापना  (- 24 जनवरी 1950
  • उत्तर प्रदेश दिवस (uttar pradesh divas) -24 जनवरी
  • जनसंख्या (uttar pradesh ki jansankhya ) – 199581477 (जनगणना 2011)
  • लिंग अनुपात – 912 (2011)
  • साक्षरता दर – 69.72%
  • भाषा – हिन्दी, उर्दू, वज्र
  • क्षेत्रफल – 240928 वर्ग कि मि
  • विधान सभा की कुल सीट – 404
  • लोकसभा की कुल सीट – 80
  • प्रमुख शहर – आगरा, इलाहाबाद, वराणसी, गोरखपुर, लखनऊ, कानपुर

उत्तर प्रदेश का इतिहास History Of Uttar Pradesh In Hindi

यह एक एतिहासिक प्रदेश है जिसे उत्तर वैदिक काल में मध्य देश के नाम से जानते थे। यह राज्य धार्मिक तथा ऐतिहासिक दृष्टिकोण से महत्वपूर्ण है। पौराणिक काल में यह भगवान राम और कृष्ण की भूमि रही है।

सकड़ों वर्ष पहले यह स्थान सम्राट अशोक के मगध साम्राज्य का हिस्सा रह चुका है। कलांतर में अनेक राजाओं ने इस प्रदेश पर राज्य किया। मध्यकाल में उत्तर प्रदेश मुगल शासक के अधीन हो गया।

उस बक्त अवध और आगरा अलग-अलग प्रांत थे। मुगलों ने आगरा और अवध का विलय कर एक संयुक्त प्रांत बनाया। जिसका नाम आगरा, अवध संयुक्त प्रांत रखा गया। सन 1935 ईस्वी में इसका नाम केवल संयुक्त प्रांत रखा गयी।

15 अगस्त 1947 को जब भारत आजाद हुआ तब इस संयुक्त प्रांत का नाम बदलकर उत्तर प्रदेश कर दिया गया। इस प्रकार 24 जनवरी 1950 को यह उत्तरप्रदेश राज्य के रूप में आस्तित्व में आया। तभी से प्रतिवर्ष uttar pradesh diwas 24 जनवरी को आता है।

उत्तरप्रदेश का भूगोल

यह प्रदेश उत्तर भारत में स्थित गंगा नदी का समतल मैदान इस राज्य का बहुत ही बड़ा भाग है। गंगा हिन्दुओं की पावन नदी है जो माँ के समान पूजनीय है, इस प्रदेश की जीवन रेखा है।

जिसके विस्तृत किनारों पर इलाहाबाद, बनारस जैसे तीर्थस्थान अवस्थित है। उत्तर प्रदेश के पूर्व में बिहार राज्य, पश्चिम में हरियाणा, दक्षिण में मध्य प्रदेश, और उत्तर में हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड से घिरा हुआ है।

उत्तर प्रदेश का कुल क्षेत्रफल 240928 वर्ग कि मी है। राज्य के 165 लाख हेक्टेयर भूमि में खेती होती है। यहाँ के लोगों का मुख्य आय का स्रोत खेती है। उत्तर प्रदेश के map के लिए क्लिक करें – Map of UP

उत्तरप्रदेश की राजधानी -History Of Uttar Pradesh In Hindi

उत्तर प्रदेश की राजधनी लखनऊ है। पौराणिक काल में इस नगरी को लक्ष्मणपुर के नाम से जाना जाता था। कहते हैं की इस नगर को प्रभु श्री राम के अनुज लक्ष्मण जी ने बसाया था।

लखनऊ को नबाबों का शहर कहा जाता था। इस शहर को सन 1755 ईस्वी में नवाब आसफ उद औला ने गोमती नदी के किनारे बसाया। मुगल काल में भी लखनऊ की गिनती भारत के प्रसिद्ध शहर में होती थी।

History Of Uttar Pradesh In Hindi - उत्तर प्रदेश का इतिहास
बड़ा इमामबाड़ा लखनऊ(History Of Uttar Pradesh In Hindi )- Image By Muhammad Mahdi Karim -commons.wikimedia.org

स्वतंत्रता की लड़ाई में योगदान –

Uttar Pradesh History In Hindi

अंग्रेजों ने सन 1856 ईस्वी में इस शहर को ब्रिटिश साम्राज्य में मिला लिया। 1947 में आजादी के बाद इसे उत्तरप्रदेश की राजधानी बनाया गया।

अंग्रेजी शासन के खिलाफ सन् 1857 ई. में जब बगावत शुरू हुई थी। उसका मूल केन्द्र उत्तर प्रदेश का मेरठ था। इसी दौरान लखनऊ और कानपुर में भी अंग्रेजों के खिलाफ जबरदस्त विद्रोह हुआ था।

इसे सिपाही विद्रोह नाम दिया गया। यहाँ के वीर सपूतों ने बढ़-चढ़कर भारत के आजादी के आंदोलन में भाग लिया। हजारों स्वतंत्रता सेनानी ने अपने प्राण न्योछावर कर दिए। वे तब तक अंग्रेजों से लड़ते रहे जब तक भारत देश आजाद नहीं हो गया।

स्वतंत्रता प्राप्ति के यह प्रदेश छः महान प्रधानमत्री, श्री जवाहरलाल नेहरू, श्रीमति इन्दिरा गाधी, श्री लालबहादुर शास्त्री व चौधरी चरण सिंह, चंद्रशेखर, वी पी सिंह हमारे देश को दिये हैं।

इन्हें भी पढ़ें – बिहार का स्वर्णिम इतिहास

प्रमुख तीर्थ स्थान

उत्तर प्रदेश में कई महत्वपूर्ण तीर्थ स्थान हैं। इसमें इलहाबाद, बनारस, अयोध्या, मथुरा, वृंदावन और चित्रकूट आदि हिन्दू समुदाय के लिए बहुत ही महत्व रखता है।

प्रयाग – प्रयागराज (इलाहाबाद ) के संगम में हर 12 वर्ष में कुम्भ का मेला लगता है, जिसे दुनियाँ का सबसे बड़ा मेला कहा जाता है जिसमें इतनी बड़ी संख्या में लोग एक साथ स्नान करते हैं।

History Of Uttar Pradesh In Hindi - उत्तर प्रदेश का इतिहास
History Of Uttar Pradesh In Hindi
कुम्भ मेला प्रयागराज -Image By Michael T Balonek – commons.wikimedia.org

इसके अलाबा वहाँ हर 6 वर्ष में अर्ध कुम्भ का भी आयोजन होता है। संगम में स्नान का अपना विशेष महत्त्व है। कहते हैं कि संगम में स्नान करने से समस्त पाप का नाश होता है।

वराणसी – गंगा के तट पर स्थित इस शहर को पौराणिक काल में कासी के नाम से जाना जाता था। इसे घाटों और मंदिरों का शहर कहा जाता है। कासी विश्वनाथ का मंदिर पूरे भारत में प्रसिद्ध है।

विंध्याचल – विंध्याचल माँ विंध्यावासिनी देवी के मंदिर के लिए प्रसिद्ध है।

अयोध्या – भगवान श्री राम के जन्म स्थल के रूप में प्रसिद्ध यह स्थान हिन्दू धर्म के लिए बेहद ही खास है।

मथुरा, वृंदावन – मथुरा और वृंदावन का संबंध भगवान श्री कृष्ण से है। इस कारण यह स्थल कृष्ण भक्त के लिए बेहद ही खास है। 

राज्य के प्रमुख त्योहार

यहाँ हर धर्म के लोग अपना त्योहार बड़े ही धूम-धाम से मनाते हैं। यहाँ के प्रमुख त्योहार में दशहरा, दिवाली, मकर संक्रांति, होली, राखी का त्योहार, महावीर जयंती, रामनवमी, कृष्ण जनमास्टमी, ईद, बकरीद, मुहर्रम आदि हैं।

मथुरा, वृंदावन और बरसाने में कृष्ण जन्माष्टमी और होली अपने खास अंदाज में मनाई जाती है।

प्रमुख शहर

इलाहाबाद – इलाहाबाद की मुख्य विशेषता यहां का त्रिवेणी संगम है। भारद्वाज आश्रम भी यहाँ का प्रमुख स्थल है। इसके अलाबा मुगल काल के दौरान इलाहाबाद में निर्मित किला भी देखने लायक है।

इलाहाबाद का आनंद भवन भी काफी प्रसिद्ध है।  जहाँ 31 अक्टूबर 1917 ई. को श्रीमती इंदिरा गांधी का जन्म हुआ था।

कानपुर – यह स्थान चमड़े के समान के लिए पूरे भारत में प्रसिद्ध है। चमरे के जूते चप्पल के निर्माण में यह शहर अग्रणी है।

आगरा – आगर, अपने ताजमहल के लिए पूरे विश्व में प्रसिद्ध है। यहाँ आगरा का किला भी काफी प्रसिद्ध स्थल है। इसके अलावा आगर चमरा उद्योग के लिए भी प्रसिद्ध है।

लखनऊ – लखनऊ उत्तर प्रदेश की राजधानी के साथ एक एतिहासिक शहर है। यहाँ के दर्शनीय स्थल में बड़ा इमामबाड़ा, और भूल-भुलैया आदि प्रसिद्ध है।

गोरखपुर – यह शहर गोरखधाम मंदिर के लिए समस्त भारत में प्रसिद्ध है।

वराणसी – वराणसी में कासी विश्वनाथ मंदिर के अलाबा, विश्व हिन्दू कॉलेज, सारनाथ आदि प्रमुख स्थल हैं।

History Of Uttar Pradesh In Hindi - उत्तर प्रदेश का इतिहास
गंगा घाट वाराणसी -Image by Simon Steinberger from Pixabay

अलीगढ़ – यह शहर अलीगढ़ मुस्लिम विश्व-विद्यालय और ताले के लिए प्रसिद्ध है।

UP में कुल कितने जिले हैं how many districts in up

उत्तर प्रदेश भारत का सधन जनसंख्या वाला राज्य है। उत्तर प्रदेश में कुल 75 जिले हैं। आगरा जिला जनसंख्या के दृष्टि कोण से सबसे बड़ा और महोबा सबसे छोटा जिला है।

वहीं क्षेत्रफल की दृष्टि से लखीमपुर खीरी सबसे बड़ा जिला और संत रविदास नगर सबसे छोटा जिला है। बिहार के समस्त जिले के बारें में जानने के लिए क्लिक करें- बिहार के जिले

दोस्तों अगर आप वेबसाइट पर history of uttar pradesh in hindi / history of up in hindi सर्च कर UP के बारें में संक्षिप्त जानकारी चाहते हैं तो यह लेख आपको जरूर पसंद आएगा।

Leave a Comment