MPhil की डिग्री मान्य नहीं UGC: विश्वविद्यालयों को 2023-24 सत्र के लिए Admission नहीं लेने का निर्देश दिया

By Amit
MPhil की डिग्री मान्य नहीं UGC: विश्वविद्यालयों को 2023-24 सत्र के लिए Admission नहीं लेने का निर्देश दिया
MPhil की डिग्री मान्य नहीं UGC: विश्वविद्यालयों को 2023-24 सत्र के लिए Admission नहीं लेने का निर्देश दिया

MPhil की डिग्री मान्य नहीं UGC: विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (UGC) ने 27 दिसंबर को देश के विश्वविद्यालयों को 2023-24 सत्र के MPhil पाठ्यक्रम के लिए प्रवेश रोकने का निर्देश जारी करते हुए कहा कि यह एक मान्यता प्राप्त डिग्री नहीं है।

UGC के सचिव ने छात्रों को सलाह देते हुए कहा की वे भारत में विश्वविद्यालयों द्वारा MPhil की डिग्री की पेश किए जाने वाले किसी भी पाठकर्म में शामिल नहीं हों। “समाचार एजेंसी पीटीआई ने यूजीसी सचिव मनीष जोशी के हवाले से कहा की एमफिल डिग्री एक मान्यता प्राप्त डिग्री नहीं है।

UGC के सचिव जोशी ने कहा,” यूजीसी के विनियमन संख्या 14, विनियम 2022 में स्पष्ट रूप से कहा गया है कि उच्च शिक्षण संस्थान किसी भी एमफिल कार्यक्रम की पेशकश नहीं करेंगे, “छात्रों को सलाह दी जाती है किसी भी एमफिल कार्यक्रम में प्रवेश न लें । “

MPhil की डिग्री मान्य नहीं UGC

देश भर में सैकड़ों निजी विश्वविद्यालय खुल रही है उनमें से कुछ कई ऐसे पाठ्यक्रम छात्रों को पेश करती हैं जो यूजीसी द्वारा मान्यता प्राप्त नहीं हैं। कुछ दिन पहले कहा गया था की पिछले पांच वर्षों के दौरान देश भर में 140 निजी विश्वविद्यालय स्थापित किए गए हैं, जिसमें गुजरात, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश और कर्नाटक के नाम शामिल हैं।

- Advertisement -

शिक्षा मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा,” निजी विश्वविद्यालय की स्थापना संबंधित राज्य विधायिका द्वारा पारित अधिनियम और संबंधित राज्य सरकार द्वारा जारी अधिसूचना द्वारा की जाती है।”

“एक निजी विश्वविद्यालय का नाम विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) द्वारा यूजीसी अधिनियम, 2 की धारा 1956(एफ) के अनुसार विश्वविद्यालयों की सूची में शामिल है,

यूजीसी सचिव कि साफ शब्दों में चेतावनी

यूजीसी सचिव मनीष जोशी ने साफ शब्दों में छात्रों को चेतावनी दी कि वे विश्वविद्यालयों द्वारा ऑफर किए जा रहे किसी भी एमफिल पाठकर्म में प्रवेश न लें।

क्योंकि UCG द्वारा एमफिल की डिग्री मान्य नहीं होगी। इसके साथ ही यूजीसी ने विश्वविद्यालयों से 2024-25 सत्र के लिए एमफिल में admission रोकने के लिए तुरंत कदम उठाने को कहा है।

अधिसूचना जारी कर यूजीसी ने कहा

एक आधिकारिक अधिसूचना जारी करते हुए विश्वविद्यालय अनुदान आयोग ने कहा की “कुछ विश्वविद्यालय मास्टर ऑफ फिलॉसफी कार्यक्रम के लिए छात्रों से नए आवेदन ले रहे हैं। इस संबंध में यह ध्यान में लाया जाना है कि एमफिल डिग्री कोई मान्यता प्राप्त डिग्री नहीं है। “

अधिसूचना में यूजीसी (पीएचडी डिग्री प्रदान करने के लिए कम से कम मानक और प्रक्रियाएं) विनियम 2022 के विनियमन संख्या 14 पर जोर दिया गया है, जो उच्च शिक्षण संस्थानों को एमफिल कार्यक्रमों की पेशकश करने से स्पष्ट रूप से प्रतिबंधित करती है ।

इस कारण से विश्वविद्यालय अनुदान आयोग ने विश्वविद्यालयों से आगामी शैक्षणिक वर्ष के लिए एमफिल में प्रवेश रोकने के लिए तत्काल कदम उठाने को कहा है। साथ ही उन्होंने छात्रों को भी एमफिल कार्यक्रमों में दाखिला नहीं लेने की सलाह दी है।

इसके साथ ही सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के विश्वविद्यालय प्राधिकरणों को शैक्षणिक वर्ष 2023-24 के लिए एमफिल कार्यक्रम में प्रवेश रोकने के लिए तत्काल कदम उठाने का निर्देश जारी किया है।

अन्य स्रोत –

इन्हें भी पढ़ें: भारत के टॉप 10 साइंस कालेज

Share This Article