कोरोना वायरस पर निबंध – CORONA VIRUS SE KAISE BACHE

पूरे विश्व भर में घातक कोरोना वायरस (COVID 19) ने जिस तरह महामारी को रूप घारण कर भय का माहौल पैदा कर दिया है। कहते हैं उस तरह का दहशत तो द्वितीय बिश्व युद्ध के दौरेन भी नहीं था। माना जाता है की पिछले 100 साल में  कभी किसी बिमारी ने इस तरह का दहशत नहीं बरपाया था।

कोरोना (COVID 19) की शुरूयात चीन के वुहान से हुआ। इस Corona Virus को इसके पहले कभी नहीं देखा गया था। W.H.O के अनुसार तेज बुखार, खांसी, सांस लेने में तकलीफ इसके लक्षण हैं।

कुछ मरीज में ऑक्सीजन का लेवल भी कम होने लगता है।कोरोना वायरस बहुत ही काम समय में दुनियाँ के अधिकांश देशों को अपने चपेट में ले लिया। विश्व स्वास्थ्य संगठन (W.H.O) ने इसे वैश्विक महामारी घोषित किया।

पूरी दुनिया में खलवली मचा रहे Corona Virus के संक्रमण से अनगिनत लोगों ने अपनी जान गँवायी। वैज्ञानिक दिन-रात इसके शोध पर काम कर रहें हैं। तेजी से कोविड का टीका लगाकर इसे रोकने का प्रयास जारी है।

कोरोना वायरस क्या है – Corona Virus In Hindi (COVID-19)

कोरोना वायरस अर्थात (COVID-19) बहुत ही सूक्ष्म लेकिन घातक वायरस है कोरोना वायरस (Corona Virus) का संबंध वायरस के ऐसे परिवार से है, जिसके संक्रमण से जुकाम से लेकर सांस लेने में तकलीफ जैसी समस्या हो सकती है

कोरोना वायरस पर निबंध - CORONA VIRUS SE KAISE BACHE
कोरोना वायरस पर निबंध – CORONA VIRUS SE KAISE BACHE

कोरोना वायरस अत्यंत ही खतरनाक वायरस है। इसे कोरोना वायरस फैमिली के विस्तार के रूप में जाना जाता है। कोरोना वायरस परिवार से होने के करना ही इस कोरोना वायरस डिजिज (COVID)नाम दिया गया। COVID-19 को SARS-CoV2 वायरस के कारण होने वाली बीमारी माना जाता है।

इस वायरस की खतरा का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है की इस बेहद खतरनाक वायरस ने अब तक करोड़ों लोगों को प्रभावित कर चुका है।

कोविद १९ फुल फॉर्म – Corona Virus In Hindi

अब हम आपको कोविड-19 का मतलब समझते हैं। इसका नोवेल कोरोना क्यों पड़ा नाम इसके बारे में जानते है। दिसंबर 2019 के अंत में पहली बार चीन में कोरोना विमारी का मामला सामने आया।

उस बक्त इसे कोराना वायरस फैमिली के विस्तार के तौर पर समझा गया। वैज्ञानिकों ने इस विमारी फैलाने वाली वायरस का नाम 2019-nCoV रखा दिया।

चूँकि साल 2019 में यह वायरस सामने आया। नया वायरस होने से नोवेल (n )और कोरोना वायरस फैमिली से होने पर CoV नाम दिया गया। इस कारण यह कोविड-19 अर्थात कोरोना वायरस डिजिज-2019 के नाम से यह पूरे दुनियाँ में प्रसिद्ध हुआ।

नोवेल कोरोना क्यों पड़ा नाम

दिसंबर सन 2019 में यह वायरस चीन से शुरू होकर पूरे दुनियाँ में फैल गया। चीन से इसके शुरुआत होने के कारण शुरू में इसे चीनी वायरस भी कह कर बुलाया गया। लेकिन विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने इसे कोविड-19 नाम दिया।

वर्ष 2019 में उत्पन्न हुए कोरोनवायरस वायरस के बारे में WHO ने 11 फरवरी 2020 को एक प्रेस विज्ञप्ति जारी किया। इस प्रेस विज्ञप्ति में WHO द्वारा इसे COVID -19 घोषित किया गया।

कैसे फैलता है कोरोना वायरस – Essay on corona virus in Hindi

कोरोना वायरस हमारी आँखों, नाक और मुंह से होते हुए हमारे शरीर के अलग-अलग अंगों में पहुंचती हैं। कोरोना वायरस (Corona Virus) से पीड़ित व्यक्ति के खाँसने और छिकने के कारण मुंह से निकले पानी के छींटों से दूसरे लोगों तक पहुंचता है।

अथवा जिस चीज पर वायरस गिरा हो उसे छूने से भी वायरस (virus)संक्रमित कर सकता है। विशेषज्ञ के शोध के अनुसार माना जा रहा है कि कोरोना वायरस किसी जगह पर गिरने के बाद कई घंटे तक सक्रिय रहते हैं।

 कोरोना वायरस के लक्षण-symptoms of Corona virus in hindi

कोरोना वायरस (Corona Virus) के लक्षण फ्लू के लक्षण से मिलते-जुलते हैं। इसमें संक्रमण के फलस्वरूप सिरदर्द, बुखार, छींक आना, सांस लेने में तकलीफ, नाक बहना और गले में खराश जैसी समस्या उत्पन्न होती हैं।

यह वायरस एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में आसानी से फैलता है। इस कारण इसे लेकर बहुत सावधानी बरतने की जरूरत है। कुछ मामलों में कोरोना वायरस घातक भी हो सकता है।

खास तौर पर 10 साल से कम उम्र के बच्चे और बुजुर्ग जिनकी उम्र 60 साल से ज्यादा है उन्हें विशेष केयर की जरूरत है। इसके साथ ही अस्थमा, शुगर और हार्ट के रोगी को भी विशेष सावधानी  की जरूरत है।

कोरोना वायरस से कैसे बचे – CORONA VIRUS SE KAISE BACHE

स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय ने कोरोना वायरस से बचने के लिए दिशानिर्देश जारी किए हैं। इनके मुताबिक, हाथों को साबुन से अच्छी तरह धोना चाहिए। अल्‍कोहल आधारित हैंड सैनिटाइजर का इस्‍तेमाल करना चाहिए। खांसते और छीकते समय नाक तथा मुंह पर रूमाल अथवा टिश्‍यू पेपर का प्रयोग करें।

जिन व्‍यक्तियों को छींक आ रही हो तथा फ्लू के लक्षण हों उनसे दूरी बनाकर रखें। भीड़-भाड़ में न जायें, सोशल डिस्टेंसिनग का पालन करें और किसी से हाथ मिलाने से परहेज करें।

साबुन से हाथ को धोना

कोरोना वायरस (Corona Virus) के संक्रमण से बचने के लिए कुछ सावधानी बरतने की जरूरत है। दिन में कई बार हाथ को साबुन से साफ करें। जिन्हें सर्दी-जुकाम या फ्लू के जैसे लक्षण हो, उनके नजदीक न जायें। पर्याप्त मात्रा में तरल पदार्थ का सेवन करें

CORONA VIRUS IN HINDI (COVID 19)- कोरोना वायरस

घर तथा उसके आसपास साफ रखें। दूसरे के मोबाईल का प्रयोग न करें। भोजन के पहले अच्छी तरह हाथ को साबुन से साफ करें। गंदे हाथ से नाक, आँख और मुह न छूए। किसी से गले नहीं मिलें।

सिरदर्द, सांस लेने में तकलीफ, छींक या फ्लू के लक्षण मालूम होने पर डॉक्टर के डॉक्टर के पास तुरंत जायें। डाक्टर के सलाह के विना किसी प्रकार की दवाई न लें।

दो गज दूरी मास्क जरूरी

घर से बाहर निकलने से बचें अगर निकालना जरूरी हो तो मास्क का प्रयोग जरूर करे। बातचीत के दौरान किसी भी व्यक्ति से दो गज की दूरी बनाए रखें। भीड़-भाड़ वाले जगह में जाने से परहेज करें।

कोरोना वायरस पर निबंध - CORONA VIRUS SE KAISE BACHE
कोरोना वायरस पर निबंध – CORONA VIRUS SE KAISE BACHE

जनता कर्फ्यू क्या है?

जनता कर्फ्यू-जनता के लिए, जनता द्वारा, खुद पर लगाया गया कर्फ्यू है।  प्रधानमंत्री मोदी ने पहली बार भारत में कोरोना जैसी महामारी से निपटने के लिए अपने सभी देशवासियों से अपील की थी।

उन्होंने 22 मार्च 2020 को सुबह के 7 बजे से लेकर रात के 9 बजे तक लोगों को घर से नहीं निकालने की अपील की थी। उन्होंने इसे जनता कर्फ्यू का नाम दिया था। उन्होंने कोरोना से मुकाबला के लिए संयम और संकल्प की जरूरत पर बल दिया।

भारत में पहली बार लॉकडाउन

जनता कर्फ्यू में सफलता के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने करोना वायरस से निर्णायक जंग के लिए 14 अप्रेल 2020 से 21 दिनों के लिए पूरे भारत में सम्पूर्ण लॉकडाउन की घोषणा की। इस लॉकडाउन के दौरान प्रधान मंत्री ने लोगों को घर में ही रहने की अपील की।

यह लॉक डाउन 24 मार्च 2020 के रात के 12 बजे से अगले 21 दिन तक लागू रहेगी। उन्होंने अपने सम्बोधन में कहा लॉकडाउन का मतलव एक तरह से कर्फ्यू ही है, उसका पालन करें। इस लॉकडाउन में नॉवेल कोरोना से निर्णायक लड़ाई के लिए जनता कर्फ्यू से भी ज्यादा सख्ती की जरूरत है।

उन्होंने अपने धर के बाहर लक्ष्मण रेखा खिचने की बात कही। उन्होंने कहा इस दौरान घर से बाहर आपका एक कदम, आपके धर में कोरोना वायरस ला सकता है।

उपसंहार – कोरोना वायरस पर हिन्दी में निबंध

कोरोना वायरस (COVID-19) जिस तेजी से वैश्विक महामारी का रूप ले चुका है। इस समय यह बहुत ज्यादा आवश्यक हो गया है की हम स्वयं संक्रमित होने से बचें। अगर हम स्वयं संक्रमित होने से बचेंगे तभी दूसरों को भी संक्रमित होने से बचाएंगे।

इस समय हमें भीड़भाड़ वाली जगहों में जाने से बचना चाहिए। कोरोना (COVID-19) जैसी वैश्विक महामारी से बचने के लिए हमें जागरूक होना होगा। कहते हैं की संक्रमण को फैलने से रोककर इस पर काबू पाया जा सकता है।

आपको कोरोना वायरस पर निबंध ( CORONA VIRUS SE KAISE BACHE ) से जुड़ी हुई जानकारी कैसी लगी अपने सुझाव से अवगत करायें।

इन्हें भी पढ़ें – मधुमेह कितने प्रकार के होते हैं।

Leave a Comment