MS Dhoni biography in Hindi | महेंद्र सिंह धोनी जीवन परिचय (Mahendra Singh Dhoni)

MS Dhoni biography in Hindi | महेंद्र सिंह धोनी जीवन परिचय (Mahendra Singh Dhoni)

Facebook
WhatsApp
Telegram

MS Dhoni biography in Hindiमहेंद्र सिंह धोनी जीवन परिचय (Mahendra Singh Dhoni, Indian cricketer) – क्रिकेटर महेंद्र सिंह धोनी को भारत का बच्चा बच्चा जनता है। उन्होंने अपने 16 साल के क्रिकेट कैरियर में भारतीय क्रिकेट को ऊंचाई की बुलंदियों तक पहुँचाया।

महान क्रिकेटर कपिलदेव के बाद महेंद्र सिंह धोनी दूसरे कप्तान हुए। जिनके नेतृत्व में भारतीय क्रिकेट टीम ने विश्व कप जीता। भले ही भारत का राष्ट्रीय खेल हॉकी है। लेकिन क्रिकेट के लिए लोगों के अंदर दीवानगी देखने को मिलती है।

हमारे देश भारत में सभी खेलों से ज्यादा क्रिकेट को पसंद किया जाता है। वर्तमान में नाम शोहरत और पैसा सबसे अधिक क्रिकेट में दिखता है।

महेंद्र सिंह धोनी वैसे ही क्रिकेटेर जिन्होंने अपने कप्तानी और बल्लेबाजी और विकेटकीपिंग के द्वारा कई रिकॉर्ड अपने नाम किए। वे लंबे छक्के अर्थात हेलीकाप्टर शॉट मारने के लिए भी प्रसिद्ध हैं।

MS Dhoni Biography in Hindi – महेंद्र सिंह धोनी जीवन परिचय
MS Dhoni Biography in Hindi – महेंद्र सिंह धोनी जीवन परिचय

अपनी कीपिंग तथा जीतने वाली मैच फिनिशिंग के लिए धोनी क्रिकेट जगत में प्रसिद्ध हैं। महेंद्र सिंह की जीवनी किसी फिल्मी कहानी से कम नहीं है। महेंद्र सिंह धोनी का जीवन परिचय शीर्षक वाले इस लेख में उनके प्रारम्भिक जीवन, क्रिकेट करियर, परिवरिक जीवन के बारें में विस्तार से जान सकेंगे।

महेंद्र सिंह धोनी जीवन परिचय इन हिंदी (MS Dhoni biography in Hindi)

पुरा नाम महेंद्र सिंह धोनी
उपनाम माही
जन्म तिथि (Birthday)7 जुलाई 1981
जन्म स्थान (Birth place)रांची (तत्कालीन बिहार)
माता-पिता का नाम देविकी धोनी व पान सिंह धोनी
महेंद्र सिंह धोनी का गांव,रांची के पास
महेंद्र सिंह धोनी उम्र (age)41 साल
महेंद्र सिंह धोनी वज़न (weight)71 kg
महेंद्र सिंह धोनी ऊंचाई (height)1.8 मीटर
पत्नी का नाम (wife)साक्षी
बच्चे जीवा (daughter)
कुल संपत्ति (गूगल के अनुसार)Rs. 767 करोड़
प्रसिद्धि विकेट कीपर बल्लेबाज और सफल कप्तान के रूप में
जीवन पर बनी फिल्म अनटॉल्ड स्टोरी ( MS Dhoni The Untold Story)

महेंद्र सिंह धोनी का प्रारम्भिक जीवन (Mahendra Singh Dhoni early Life)

भारत के महान बल्लेबाज व विकेटकीपर महेंद्र सिंह धोनी का जन्म तत्कालीन बिहार के रांची में हुआ था। वर्तमान में रांची बिहार से पृथक राज्य झारखण्ड की राजधानी है।

महेंद्र सिंह धोनी का जन्म 7 जुलाई 1981 को रांची में एक मध्यम वर्गीय राजपूत परिवार में हुआ था। उनके पिताजी का नाम पान सिंह धोनी तथा माताजी की देवकी धोनी है।

उनकी माताजी एक साधारण गृहिणी थी और पिता मेकॉन लिमिटेड नामक स्टील कंपनी में नौकरी करते थे। उनके परिवार में माता पिता के अलावा एक भाई और एक बहन भी हैं। उनके भाई का नाम नरेन्द्र सिंह धोनी और बहन का नाम जयंती है।

शिक्षा दीक्षा MS Dhoni education

महेंद्र सिंह धोनी की प्रारम्भिक शिक्षा रांची के जवाहर विद्या मंदिर से शुरू की थी। बचपन से महेंद्र सिंह धोनी को फुटबॉल खेलना में गहरी रुचि थी।

करियर MS Dhoni career

इसी दौरान उनकी नौकरी रेलवे में लग गई। वे TTE(ट्रेन टिकट चेकर) के रूप में खड़कपुर रेलवे स्टेशन पर रेलवे की नौकरी की।

धोनी को फुटबॉलर बनने को शौक था

वे एक बड़ा फुटबॉलर बनना चाहते थे। धोनी क्रिकेट और फुटबॉल दोनों खेला करते थे लेकिन उन्हे क्रिकेट से ज्यादा फुटबॉल खेलना पसंद था। वे फुटबॉल में गोलकीपर के रूप में खेला करते थे।

लेकिन क्रिकेट भी वे बहुत अच्छा खेलते थे। उनके कोच ठाकुर दिग्विजय सिंह ने उनके अंदर छिपी क्रिकेट की प्रतिभा को पहचान लिया। उन्होंने धोनी को क्रिकेट खेलने की तरफ प्रेरित किया।

उन्होंने अपने माता पिता की सहमति लेकर अपने पूरा ध्यान क्रिकेट पर लगा दिया। उनके कोच ने महेंद्र सिंह धोनी को एक विकेट कीपर और बल्लेबाज के रूप में तरसना शुरू किया।

कुछ ही दिनों में उन्होंने अपने विकेट कीपिंग के द्वारा सबको अचंभित करना शुरू कर दिया। विकेट कीपिंग के साथ महेंद्र सिंह धोनी की बल्लेबाजी भी दिन प्रतिदिन निखरती गई। लंबे-लंबे छक्के के लिए वे जल्दी ही मशहूर हो गये।

लेकिन उनकी पहचान तब मिली जब उन्हें सन 2002 में कमांडो क्रिकेट क्लब की तरफ से खेलने का मौका मिला। इस खेल में उन्होंने अपने विकेट कीपिंग से सबका दिल जीत लिया।

महेंद्र सिंह धोनी के जीवन में नया मोड़ (Mahendra Singh Dhoni’s life turning point)

महेंद्र सिंह धोनी के जीवन में उस बक्त नया मोड आया। जब उनका सेलेक्सन 1998 में बिहार राज्य के अंडर-19 क्रिकेट टीम में उनका चयन हुआ। उन्होंने बिहार रणजी टीम में खेलते हुए लोगों का ध्यान अपनी ओर खिचा।

उसके बाद उन्होंने पीछे मुड़कर नहीं देखा। उसके बाद उन्हें दिलीप ट्रॉफी, देवधर ट्रॉफी में खेलने का मौका मिला। इन मेच में बेहतर प्रदर्शन के बाद उनका चयन इंडिया “ए” टीम में केन्या टूर के लिए किया गया।

इन मेचों के दौरान उनके प्रदर्शन को काफी सराहा गया। अपने अद्भुत प्रदर्शन के वल पर उन्होंने राष्ट्रीय टीम चयन समीति का ध्यान अपनी ओर आकर्षित किया। शुरुआत के दिनों में धोनी अपने बाल लम्बे रखा करते थे।

क्योंकि वे अपने पसंदीदा बॉलीवुड हीरो जॉन अब्राहम के वालों के स्टाइल से प्रभावित थे।

राष्ट्रीय क्रिकेट टीम में चयन

धोनी का सन 2004 में सौरव गांगुली के कप्तानी में राष्ट्रीय टीम में चयन किया गया। तब तक धोनी अपने विकेट कीपिंग और बल्लेबाजी का लोहा मनवा चुके थे।

उन्होंने अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट मेच में पदार्पण इंडिया टीम के बांग्लादेश दौरे के समय किया। उन्हें भारत और बांग्लादेश के बीच चट्टगाँव स्टेडियम में होने वाले मेच में विकेट कीपर की भूमिका निभाई।

हालांकि इस मैच में वे बल्लेबाजी में कुछ खास नहीं कर पाए और अपने पहले अंतर्राष्ट्रीय मैच में वे ज़ीरो पर आउट हो गये।

धोनी का क्रिकेट का सफर

महेंद्र सिंह धोनी बहुत ही थोड़े समय में अपने बल्लेबाजी, विकेट कीपिंग और आक्रामक बल्लेबाजी के कारण प्रसिद्ध हो गये।

बड़े बड़े दिग्गज बल्लेबाज उनके बल्लेबाजी, विकेट कीपिंग और मैच जिताने वाले पारी के कायल हो गये।
महेंद्र सिंह धोनी ने अपने करीब 16 साल के क्रिकेट करीयर में 90 टेस्ट और 347 वन डे मैच खेले।

इस दौरान उन्होंने टेस्ट मैच में 4876 रन बनाये। टेस्ट मैच में उन्होंने सबसे 224 रन की सबसे बड़ी पारी चेन्नई में ऑस्ट्रेलिया के विरुद्ध बनाया।

धोनी ने टेस्ट मैच में विकेट कीपिंग करते हुये 38 स्टम्पिंग की तथा स्टंप के पीछे 256 कैच लपके। टेस्ट मैच के साथ एक दिवसीय मैच में भी धोनी का बहुत ही बेहतर प्रदर्शन रहा।

उन्होंने 300 से ज्यादा एक दिवसीय मैच खेलते हुये 10773 रन बनाया। वन-डे इंटरनेशनल क्रिकेट मैच में धोनी ने विकेट कीपिंग करते हुए 120 स्टम्पिंग और स्टंप के पीछे 318 कैच पकड़ने का रिकॉड अपने नाम किया।

एक दिवसीय क्रिकेट मैच में उनका बेहतर प्रदर्शन 2005 में श्रीलंका के खिलाफ रहा। उन्होंने जयपुर के सवाई मानसिंह स्टेडियम में श्रीलंका के खिलाफ बल्लेबाजी करते हुये 183 रन की इतिहासिक पारी खेली।

महेंद्र सिंह धोनी एक सफल कप्तान रहे। उनकी कप्तानी में भारत ने 199 एक दिवसीय मैंचो में 110 में जीत दर्ज की। उनकी कप्तानी में भारतीय टीम ने 72 टी-20 मैच में 41 में तथा 60 टेस्ट मैच में 27 में जीत हासिल की।

परिवारिक जीवन (family, first love, daughter)

महेंद्र सिंह धोनी का विवाह दिनांक 04 जुलाई 2010 को हुआ था। उनकी पत्नी का नाम साक्षी है, उन्हें एक बेटी है जिसका नाम जीवा है। कहा जाता है की धोनी और साक्षी के पिता एक ही कंपनी में काम करते थे।

लेकिन धोनी का अपने पत्नी साक्षी से मुलाकात पहली बार 2007 में कलकता में हुआ था। उस बक्त कलकता में भारत और पाकिस्तान के बीच मैच चल रहा था।

धीरे-धीरे दोनों के बीच दोस्ती हुई जो बाद में प्यार में बदल गई। इस प्रकार महेंद्र सिंह धोनी ने साल 2010 में साक्षी के साथ शादी के बंधन में बंध गये।

क्रिकेट से सन्यास

उनका नाम भारत के शांतचित्त कप्तानों में लिया जाता था। अंतिम क्षण तक वे अपने विरोधी को अपने गेम प्लान से अवगत नहीं होने देते थे।

अपने 16 साल के लंबे क्रिकेट करियर में उन्होंने अपने देश के लिए खेलते हुए कई रिकॉर्ड बनाये। भारत के महान विकेट कीपर बल्लेबाज महेंद्र सिंह धोनी ने 15 अगस्त 2020 को क्रिकेट से सन्यास लेने की घोषणा कर दी।

यह सुनकर उनके करोड़ों प्रसंशक को निराशा हुई। लेकिन लोगों ने उनके आने वाले समय के ढेर सारी शुभकामनाएँ दी।

उपाधि व सम्मान

क्रिकेट में उत्कृष्ट योगदान के उन्हें इंडियन आर्मी के पैरा कमांडो बटालियन में मानद लेफ्टिनेंट कर्नल का रेंक प्रदान किया गया। इस प्रकार वे क्रिकेट महेंद्र सिंह धोनी से लेफ्टिनेंट कर्नल महेंद्र सिंह धोनी कहलाये।

साथ ही भारत सरकार ने उन्हें देश का सर्वोच्च नागरिक सम्मान पद्म भूषण और पद्म श्री प्रदान किया। वर्ष 2008 में में आईसीसी वनडे प्लेयर ऑफ़ द इयर अवार्ड पाने वाले धोनी प्रथम भारतीय खिलाड़ी थे।

खेल के क्षेत्र में उत्कृष्ट योगदान के लिए भारत सरकार ने उन्हें सन 2009 में राजीव गाँधी खेल रत्न पुरस्कार से पुरस्कृत किया। महेंद्र सिंह धोनी अपने प्रसंसक के बीच “माही” उपनाम से प्रसिद्ध हैं।

महेंद्र सिंह धोनी के नाम रिकॉर्ड

  • महेंद्र सिंह धोनी के नाम एक वन डे मैच की पारी में 10 छक्के मारने का रिकॉड है।
  • उनके नाम अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट मैच में सबसे तेज़ 0.76 सेकंड में स्टम्पिंग का रिकॉर्ड दर्ज है।
  • उनकी कप्तानी में भारत की क्रिकेट टीम ने 2011 में क्रिकेट का एक दिवसीय वर्ल्ड कप जीता।
  • उनकी अगुआई में भारतीय टीम ने 2007 का टी-20 वर्ल्ड कप तथा 2013 की चैंपियंस ट्राफी में जीत दर्ज की।
  • क्रिकेट जगत में विकेट कीपर के द्वारा विकेट के पीछे सबसे ज्यादा केच लेने का रिकॉर्ड धोनी के नाम दर्ज है।
  • महेंद्र सिंह धोनी एकमात्र कप्तान है जिन्होंने वन-डे में सातवें स्थान पर बैटिंग करते हुए शतक जमाया था।
  • धोनी एक दिवसीय में 200 छक्के मारने वाले पहले भारतीय और विश्व के पांचवें खिलाड़ी हैं।
  • उनकी कप्तानी में वर्ष 2014 में भारत ने 14 वर्ष बाद इंग्लैंड की सरजमी पर एक दिवसीय सीरीज जीती थी।
  • धोनी ने विकेट कीपर बल्लेबाज के रूप में 183 रन का विशाल स्कोर बनाकर आस्ट्रेलिया के विकेट कीपर एडम गिलक्रिस्ट के रिकॉड को तोड़ा।

महेंद्र सिंह धोनी का जन्म कब और कहाँ हुआ था?

महेंद्र सिंह धोनी का जन्म रांची, झारखण्ड में 7 जुलाई 1981 को एक साधारण परिवार में हुआ था।

इन्हें भी पढ़ें : –

भारत के स्टार एथलीट नीरज चोपड़ा का जीवन परिचय

Amit

Amit

मैं अमित कुमार, “Hindi info world” वेबसाइट के सह-संस्थापक और लेखक हूँ। मैं एक स्नातकोत्तर हूँ. मुझे बहुमूल्य जानकारी लिखना और साझा करना पसंद है। आपका हमारी वेबसाइट https://nikhilbharat.com पर स्वागत है।

Leave a comment

Trending Posts