टॉप 10 ऋषिकेश में घूमने की जगह | Rishikesh me ghumne ki jagah in Hindi

ऋषिकेश में घूमने की जगह | Rishikesh me ghumne ki jagah in Hindi

ऋषिकेश में घूमने की जगह के लिए प्रसिद्ध है। अगर आप भी Rishikesh me ghumne ki jagah hindi में पढ़ना चाहते हैं तो यह लेख आपके लिए है। ऋषिकेश को “विश्व की योग राजधानी” के रूप में जाना जाता है।

धार्मिक के साथ यह स्थान दूरिस्ट के लिए भी खास है। यह तब प्रसिद्ध हुआ जब 1960 के दशक में प्रसिद्ध अंग्रेजी रॉक बैंड द बीटल्स वहां घूमने आया था। विश्व प्रसिद्ध यह बैंड महर्षि महेश योगी के आश्रम में गया।

जब आप इस आध्यात्मिक शहर में जाएं तो आपको कुछ समय इस आश्रम में भी जरूर बिताना चाहिए। हालाँकि, ऋषिकेश में धूमने के लिए कई अन्य स्थान प्रसिद्ध हैं जिसे आपको जरूर देखना चाहिए।

आप अपने दिन की शुरुआत शिवपुरी में रिवर राफ्टिंग से कर सकते हैं, उसके बाद नदी के किनारे स्थित दुकानों पर नाश्ता कर लक्ष्मण झूला पर चलने का आनंद ले सकते हैं। 

- Advertisement -

अपने यात्रा के अंत में यहाँ के प्रसिद्ध घाट पर धुमे और वहाँ शाम को होने वाली गंगा आरती का अविश्वसनीय आनंद लें। अगर आप ऋषिकेश जाने की योजना बना रहें हैं और ऋषिकेश एन घुमनें की जगह के बारे में जानना चाहते हैं।

तो यह लेख आपको की आवश्यकता को पूरी कर सकता है। आइए ऋषिकेश में सबसे अधिक देखी जाने वाली जगहों के बारे में विस्तार से जानते हैं। 

ऋषिकेश में घूमने की जगह | Rishikesh me ghumne ki jagah in Hindi

ऋषिकेश में घूमने की जगह (Rishikesh me ghumne ki jagah in Hindi )

1. लक्ष्मण झूला, ऋषिकेश

लक्ष्मण झूला ऋषिकेश का एक प्रसिद्ध दर्शनीय चीज है। ऋषिकेश का यह प्रसिद्ध लक्ष्मण झूला नदी से 70 फीट ऊपर 450 फुट लंबा एक सस्पेंशन ब्रिज है। इस ब्रिज की गिनती विश्व के सबसे प्रसिद्ध स्थानों में होती है।

यह झूला ऋषिकेश शहर से करीब 4.5 किलोमीटर दूर पूर्वोत्तर दिशा में स्थित है। इस ब्रिज का निर्माण 1889 में गंगा नदी पर हुआ था। यह दर्शिनी पूल इस स्थान को अति  महत्वपूर्ण पर्यटन स्थल बनाता है।

इस पुल के दोनों ओर बहुत सारी दुकानें हैं, जब आप आगे बढ़ेंगे तो पास में लक्ष्मण मंदिर और तेरा मंजिल मंदिर का दर्शन कर सकते हैं। इस ब्रिज से आप चारों ओर की पहाड़ियों के अनुपम दृश्य का आनंद ले सकते हैं। 

इस स्थान को भगवान राम के छोटे भाई लक्ष्मण से भी जोड़कर देखा जाता है। पौराणिक मान्यता के अनुसार कहते हैं की इस स्थान पर लक्ष्मण जी ने जूट की रस्सियों के सहारे नदी के दूसरी तरफ पार किए थे।

2. राम झूला, ऋषिकेश 

ऋषिकेश में  लक्ष्मण झूला से कुछ मील की दूरी पर राम झूला स्थित है। देखने में और संरचना और निर्माण में यह झूला लक्ष्मण झूला के ही समान है। लक्ष्मण झूले के तर्ज पर ही इस झूले का निर्माण 1980 में हुआ  था।

राम झूला को पर करते ही आप बादलों से बाहर झांकते हिमालय तथा हिमालय से निकलती गंगा नदी के प्रवाह विहंगम दृश्य देख सकेंगे। लगभग 450 फीट लंबा यह पुल घाटियों और आसपास के मंदिरों का बड़ा ही मनमोहक दृश्य प्रस्तुत करता है।

यदि आप इन सेभी दृश्यों को आने वाले आनंद को जीवन भर के लिए सजोना चाहते हैं तो धीरे धीरे चलते हुए इस स्थान का भरपूर आनद लें। 

राम झूला ऋषिकेश के दो प्रसिद्ध  आश्रमों को जोड़ने के लिए भी प्रसिद्ध है। इसके एक छोर पर जहां स्वर्ग आश्रम तो वहीं दूसरी ओर शिवानंद आश्रम स्थित है।  

3. तेरा मंजिल मंदिर ऋषिकेश – Tera Manzil Mandir, Rishikesh

यह मंदिर rishikesh mein ghumne ki jagah में से एक है। ऋषिकेश के इस सबसे प्रसिद्ध मंदिर को त्र्यंबकेश्वर मंदिर के नाम से भी जाना जाता है। जैसा कि इसके नाम से पता प्रतीत होता है की यह 13 मंजिला मंदिर हैं,

जो सुंदर डिजाइन से युक्त देखने में बेहद खूबसूरत है। यह मंदिर गंगा नदी के तट पर है जो दूर से अलग दिखता है। इस मंदिर का अगला भाग चमकीले रंग का है, जो पर्यटक को दूर से आकर्षित करता है।

ऋषिकेश के इस मंदिर के पास बहुत सारे होटल हैं जिनके बालकोनी से गंगा और उसके खूबसूरत घाटों का अद्भुत नजारा देखा जा सकता है। 

4. श्री भारत मंदिर ऋषिकेश – Shri Bharat Mandir, Rishikesh

श्री भरत मंदिर पूरे शहर में सबसे पुराने और सबसे दर्शनीय मंदिरों में से एक है। इसकी गिनती  ऋषिकेश के शीर्ष 10 स्थानों में होती है। यह भगवान हृषिकेश नारायण को समर्पित है।

इस खूबसूरत मंदिर के बारे में कई मान्यताएं प्रसिद्ध हैं, कहा जाता है की स्वर्ग जाते समय पांडव इसी  मंदिर में रुक कर भगवान हृषिकेश से प्रार्थना की थी। लोगों का यह भी मानना है की भगवान बुद्ध भी यहाँ आए थे।

इस प्रकार देखा जी तो इस मंदिर से जुड़ी कहानी के कारण, यह मंदिर ऋषिकेश में घूमने के लिए सबसे अच्छी जगहों में से एक है।

5. त्रिवेणी घाट ऋषिकेश – Triveni Ghat, Rishikesh

यह ऋषिकेश के सबसे प्रसिद्ध घाटों में से एक है। रोज शाम की यहाँ गंगा आरती होती है। यहाँ होने वाली शाम की आरती की छटा देखते ही बनती है। इस घाट को पवित्र इसलिए कहा जाता है क्योंकि यहीं पर गंगा, यमुना और सरस्वती का जल एक साथ मिलता है।

इस घाट को लोग अति पावन मानते हैं।  हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार इस घाट के पास गंगा के पवित्र जल में डुबकी लगाने से आपके सभी पाप धुल जाते हैं।

रामायण और महाभारत में भी इस स्थान का जिक्र मिलता है। शाम को घाट के किनारे बैठना और गंगा आरती देखना ऋषिकेश में सबसे खास चीजों में से एक है।

6. बीटल्स आश्रम ऋषिकेश – The Beatles Ashram, Rishikesh

बीटल्स आश्रम ऋषिकेश में घूमने के लिए सबसे महत्वपूर्ण स्थानों में से एक है। यह शहर के केंद्र से लगभग 18 किमी दूर अवस्थित है। बीटल्स आश्रम में भावातीत ध्यान करने के बाद, दुनिया भर के लोगों में भारतीय संस्कृति के बारे में एक अलग दृष्टिकोण बना। 

यदि आप भगवान बीटल्स में आस्था रखते हैं, तो आपको एक बार आश्रम जाना चाहिए । यहाँ आकार आप शांति और आनंद की अनुभूति अनुभव करेंगे। 

7. शिवपुरी ऋषिकेश -Shivpuri, Rishikesh

रिवर राफ्टिंग जैसे रोमांचकारी खेल के बिना आपकी  ऋषिकेश की यात्रा अधूरी रह सकती है। और सबसे रोमांचक आउटडोर खेलों में से एक रिवर राफ्टिंग के लिए शिवपुरी, ऋषिकेश में सबसे अच्छी जगह है। यह स्थान रिवर राफ्टिंग के लिए लोकप्रिय है। 

8. नीलकंठ महादेव मंदिर – Neelkanth Mahadev Temple, Rishikesh

यह पवित्र मंदिर ऋषिकेश से लगभग 30 किमी दूर स्थित है। यह मंदिर भगवान शिव की पूजा करने वाले भक्तों के लिए सबसे महत्वपूर्ण यात्रा स्थलों में से एक है।

हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार यह मंदिर वहां बनाया गया था जहां भगवान शिव ने समुन्द्र मंथन के बाद लिकले जहर को पिया था।

इसी विष पान के बाद भगवान शिव का गले का रंग नीला हो गया जिसे वे नीलकंठ कहलाये। इस मंदिर के पास एक पवित्र झरना मौजूद है जहां लोग पवित्र स्नान कर सकते हैं।

9. बंजी जंपिंग हाइट्स ऋषिकेश  – Jumpin Heights, Rishikesh

जो लोग हमेशा नई जगहों पर घूमना पसंद करते हैं उनके लिए ऋषिकेश एक बेहतरीन जगह है। यह वह जगह भी है जहां आप बंजी जंपिंग का व्यापक आनंद ले सकते हैं।

जंपिन हाइट्स जो एक डरावनी और रोमांचकारी खेल है इसका लुफ़त लेने के लिए ऋषिकेश एक सबसे अच्छी जगह है।

बंजी जंपिंग के अलावा इस स्थान पर बड़ा झूला भी है। ऋषिकेश में इसके पास कुछ बेहतरीन होटल मौजूद हैं, जहां अपने प्रवास के दौरान रुका जा सकता है। 

इन्हें भी पढ़ें : भारत माता मंदिर हरिद्वार क्यों प्रसिद्ध है

Share This Article
Leave a comment