Sukanya Samriddhi Yojana: सरकार ने दिया बेटियों को नए साल का तोहफा, बढ़ाई सुकन्या समृद्धि योजना की ब्याज 8.2%

Sukanya Samriddhi Yojana
Sukanya Samriddhi Yojana

Sukanya Samriddhi Yojana: सुकन्या समृद्धि योजना में निवेश करने वालों को सरकार ने नए साल से पहले वित्त वर्ष (2023-24) की चौथी तिमाही के लिए ब्याज दर में 8.2 फीसदी की बढ़ोतरी कर निवेशकों को तोहफा दिया है।

इसी योजना के लिए पहले ब्याज दर 8 फीसदी दिया जाता था। सरकार ने सुकन्या समृद्धि योजना में ब्याज दर 8 फीसदी की बढ़ाकर 8.2 फीसदी कर निवेशकों को एक तरह से नए साल का गिफ्ट दिया है।

Sukanya Samriddhi Yojana दो बार बढ़ाई गई ब्याज

चालू वित्त वर्ष में यह दूसरी बार है जब सरकार ने सुकन्या समृद्धि योजना के लिए ब्याज दर में बढ़ोतरी की है। बताते चले की चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में सरकार ने इस योजना के लिए ब्याज दरें 7.6 फीसदी रखी थी जिसे बढ़ाकर 8 फीसदी किया गया था।

इसके अलावा सावधि जमा योजना(फिक्स डिपॉजिट) की ब्याज दरों में भी वृद्धि की गई है।

- Advertisement -

क्‍या है सुकन्‍या समृद्ध‍ि योजना

सुकन्या समृद्धि योजना की शुरुआत पीएम मोदी द्वारा बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान के एक भाग के रूप में हुई। यह भारत सरकार द्वारा चलाई गई बालिकाओं के लिए एक छोटी जमा योजना है। यह योजना सरकार की तरफ से लड़की की शिक्षा और शादी के खर्चों में सहायता के उद्देश्य से लाई गई है।

Sukanya Samriddhi Yojana: सरकार ने दिया बेटियों को नए साल का तोहफा, बढ़ाई सुकन्या समृद्धि योजना की ब्याज 8.2%

इन योजना में नहीं बढ़ा ब्याज

पीपीएफ जमा पर ब्याज दर में कोई बढ़ोतरी नहीं हुए है। इसकी ब्याज दरें 7.1 फीसदी ही है। इसके अलावा किसान विकास पत्र पर ब्याज लघु अवधि 115 दिनों के लिए 7.5 फीसदी निर्धारती है।

राष्ट्रीय बचत प्रमाणपत्र के ब्याज दर में भी को बढ़ोतरी नहीं हुए। उसी तरह मासिक आय योजना के लिए ब्याज दर में भी कोई वृद्धि नहीं हुई है।

सरकर की योजना और ब्याज दरें

  • डाकघर में 1 साल के लिए सावधि जमा(फिक्स डिपॉजिट) पर ब्याज – 6.9 फीसदी
  • डाकघर में 2 साल के लिए सावधि जमा(फिक्स डिपॉजिट) पर ब्याज – 7 फीसदी
  • डाकघर में 3 साल के लिए सावधि जमा(फिक्स डिपॉजिट) पर ब्याज – 7.1 फीसदी
  • डाकघर में 5 साल के लिए सावधि जमा(फिक्स डिपॉजिट) पर ब्याज – 7.5 फीसदी
  • डाकघर में 2 साल के लिए सावधि जमा(फिक्स डिपॉजिट) पर ब्याज – 7 फीसदी
  • राष्ट्रीय बचत प्रमाणपत्र (एनएससी) पर ब्याज – 7.7 फीसदी
  • किसान विकास पत्र पर ब्याज – 7.5 फीसदी (115 महीने के बाद)
Share This Article