अर्थ आवर क्या है, जानें कब क्यों और कहां से हुई इसकी शुरुआत (What is Earth Hour in Hindi)

By Amit

What is Earth Hour in Hindi: अर्थ आवर असल में वर्ल्ड वाइड फंड(WWF) की एक वार्षिक पहल है जो इस वर्ष 23 मार्च को मनाया जा रहा है। इसे बिजली की बचत के प्रति जागरूकता तथा पर्यावरण संरक्षण और स्थिरता को बढ़ावा देने के लिए एक प्रतीकात्मक संकेत के रूप में विश्व भर में आयोजित किया जाता है।

अर्थ आवर क्या है – What is Earth Hour in Hindi

अर्थ आवर डे बिजली बचाने के उद्देश्य से दुनियाभर में आयोजन किया जाने वाला एक अभियान है। इस आयोजन की शरुआत वर्ल्ड वाइड फंड (WWF) के द्वारा लोगों को बिजली के महत्व और पर्यावरण संरक्षण के प्रति जागरूक करना है।

अर्थ आवर डे के माध्यम से दुनिया भर के लोगों को कम से कम एक घंटे के लिए अनावश्यक लाइट को बंद कर बिजली को बचना है। इसके साथ ही इस अभियान के द्वारा अधिक से अधिक सौर ऊर्जा के उपयोग के प्रति भी लोगों को प्रोत्साहित करना है ।

अर्थ आवर डे का इतिहास

इसके शुरुआत 2007 में एक “अर्थ आवर” के माध्यम से सिडनी, ऑस्ट्रेलिया में हुआ था। लेकिन यह कार्यक्रम धीरे-धीरे दुनिया भर में लोकप्रिय और प्रसिद्ध हो गया।

- Advertisement -

बर्ष 2008 में में इस अभियान के तहद करीब 35 देशों ने भाग लेकर एक घंटे के लिए बिजली बचाओ अभियान में भाग लिया। वर्तमान में 178 से भी अधिक देश अर्थ आवर डे का हिस्सा बन चुके हैं।

कब मनाया जाता है अर्थ आवर डे:

अर्थ आवर आमतौर पर प्रत्येक वर्ष मार्च के अंतिम शनिवार को पूरे विश्व में आयोजित किया जाता है। इस दिन कुछ स्थानों पर लोग अपने बिजली को बंद कर मोमबत्ती जलाकर अर्थ आवर सेलिब्रेट करते हैं ।

अर्थ आवर की आवश्यकता क्यों है?

अब सवाल यह उठता है कि हमें अर्थ आवर डे क्यों बनना चाहिए। एक घंटे की बिजली बचाने से क्या होगा। तो बता दें की इसके द्वारा लोगों को तेजी से जलवायु परिवर्तन के प्रति जागरूक करना है। हमारे देश में कुछ स्थानों पर एक घंटे के लिए लाइट बंद रखी जाती है।

अर्थ आवर वर्ल्ड वाइड फंड(WWF)का एक वार्षिक कार्यक्रम है, जो मार्च के आखरी शनिवार को मनाया जाता है। इस अभियान को पर्यावरण संरक्षण और सतत विकास को बढ़ावा देने के एक प्रतीकात्मक कदम के रूप में मनाया जाता है।

इन्हें भी पढ़ें:

World Tourism Day 2023: आज है विश्व पर्यटन दिवस, जाने कैसे हुई थी इस दिन की शुरुआत,

Share This Article