Surat Diamond Bourse – सूरत डायमंड बोर्स क्या है जिसका आज PM मोदी ने किया उद्घाटन

By Amit
Surat Diamond Bourse - सूरत डायमंड बोर्स
Surat Diamond Bourse - सूरत डायमंड बोर्स

Surat Diamond Bourse: आज 17 दिसंबर 23 को प्रधानमंत्री नेरेन्द्र मोदी सूरत डायमंड बोर्स का उद्घाटन किया। सूरत डायमंड बोर्स केंद्र के कारण सूरत को इस नई पहचान मिलेगी। इस लेख में हम सूरत डायमंड बोर्स क्या है विस्तार से जानेंगे।

सूरत डायमंड बोर्स’ क्या है (What is Surat Diamond Bourse)

आपको बता दें कि सूरत का ‘डायमंड बोर्स’ इंटरनेशनल डायमंड एंड ज्वैलरी बिजनेस के लिए विश्व का सबसे बड़ा आधुनिक सुविधाओं से लेस सेंटर है। गुजरात का यह केंद्र कच्चे और पॉलिश किए गए हीरे के साथ-साथ आभूषणों के व्यापार के लिए भी एक विश्व प्रसिद्ध केंद्र होगा।

Surat Diamond Bourse - सूरत डायमंड बोर्स

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया उद्घाटन

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज 17 दिसंबर को गुजरात के सूरत में बने दुनियाँ के सबसे बड़े डायमंड सेंटर का उद्घाटन किया। गुजरात के सूरत डायमंड बोर्स (SDB) में स्थित इस बिल्डिंग का इनॉगरेशन प्रधानमंत्री ने 12 बजे के लगभग किया। इस इवेंट में भाग लेने के लिए देश और दुनिया के 70,000 से अधिक लोगों को निमंत्रण किया गया था।

पीएम मोदी ने अपने सम्बोधन में कहा की उनके तीसरी पारी में भारत टॉप 3 इकोनॉमी में एक होगा। सूरत डायमंड बोर्स के उद्घाटन में बोलते हुए पीएम मोदी ने कहा ये मेरी गारंटी है।

- Advertisement -

डायमंड बोर्स की विशेषता

यह सेंटर दुनियाँ की सबसे बड़ी इंटरकनेक्टेड इमारत होगी। 35.54 एकड़ में फैली डायमंड बोर्स की इमारत का बिल्ड अप एरिया 67 लाख वर्ग फीट माना जाता है। जबकि पेंटागन का बिल्ड अप एरिया 65 लाख वर्ग फीट है।

इस कारण से अमेरिकी रक्षा मुख्यालय पेंटागन से भी अधिक ऑफिस होंगी। कहते हैं की इसमें 300 वर्ग फीट से 1 लाख वर्ग फीट तक के ऑफिस स्पेस मौजूद हैं। जिसमें 4500 से भी अधिक ऑफिस होंगे।

इसके अलावा इस डायमंड बोर्स कैंपस में कॉन्फ्रेंस हॉल, मल्टिपर्पज हॉल, रेस्तरां, बैंक, सेफ डिपॉजिट वॉल्ट, कस्टम्स क्लीयरेंस हाउसेज, कन्वेंशन सेंटर, एग्जिबिशन सेंटर्स, ट्रेनिंग सेंटर्स, क्लब और एंटरटेनमेंट एरिया भी मौजूद हैं।

Surat Diamond Bourse - सूरत डायमंड बोर्स
Surat Diamond Bourse – सूरत डायमंड बोर्स

गुजरात के सूरत में निर्मित 9 ग्राउंड टावर वाला मेगास्ट्रक्चर 15 मंजिल वाला है। सभी टावर एक सेंट्रल स्पाइन से एक साथ सम्बद्ध हैं। बताते चलें की भारत के सूरत का नाम विश्व के 90% से अधिक नेचुरल डायमंड की मैन्युफैक्चरिंग के लिए जाना जाता है।

डायमंड बोर्स की कुल लागत

डायमंड बोर्स बिल्डिंग की कुल लागत 3,500 करोड़ रुपए बताई जाता है। इस इमारत का निर्माण कार्य फरवरी 2015 में शुरू हुआ था, जो अप्रैल 2022 में जाकर पूरा हुआ। गुजरात के सूरत का डायमंड बोर्स को डायमंड इंडस्ट्री के मैन्युफैक्चरिंग और ट्रेडिंग दोनों क्षेत्र में वन-स्टॉप हब के रूप में विकसित किया है।

गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में शामिल

भारत के इस प्रसिद्ध इमारत डायमंड बोर्स को इसी साल अगस्त 2023 में गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज हुआ था। कहते हैं की इससे पहले दुनिया का सबसे बड़े ऑफिस कॉम्प्लेक्स का होने का रिकॉर्ड अमेरिका के पेंटागन के नाम दर्ज था।

इसके अलावा डायमंड बोर्स को इंडियन ग्रीन बिल्डिंग काउंसिल (IGBC) द्वारा प्लैटिनम रैंकिंग प्रदान की गई है।

सूरत डायमंड बोर्स (SDB) के बारें मे कुछ रोचक तथ्य

Surat Diamond Bourse - सूरत डायमंड बोर्स क्या है जिसका आज PM मोदी ने किया उद्घाटन
  • सूरत डायमंड बोर्स विश्व का सबसे बड़ा ऑफिस कॉम्प्लेक्स है।
  • जो अमेरिका के पेंटागन के मुख्यालय भवन से भी बड़ा है।
  • डायमंड बोर्स में 4,500 से अधिक हीरा व्यापार ऑफिस है।
  • यह कच्चे हीरे और पॉलिश हीरे के व्यापार के लिए प्रसिद्ध केंद्र होगा।
  • यह कार्यालय सभी अत्याधुनिक सुविधा और कनेक्टिविटी के युक्त है।
  • सुरक्षा के लिहाज से इस ऑफिस परिसर में 4000 से अधिक कैमरे लगे हैं।
  • सूरत डायमंड बोर्स बिल्डिंग की लागत करीब 3000 करोड़ रुपये कही जाती है।
  • करीब 35.54 एकड़ के भूखंड पर बनी इस इमारत में नौ टावर और 15 मंजिल हैं।
  • माना जाता है की गुजरात के सूरत डायमंड बोर्स से 1.5 लाख रोजगार पैदा होने के असार हैं।

इन्हें भी पढ़ें : दुनियाँ की 10 सबसे खूबसूरत स्थान जहां घूमना हर किसी का सपना होता है।

Share This Article