भारत की खोज किसने की थी | Bharat ki khoj kisne ki thi in Hindi

भारत की खोज किसने की थी | Bharat ki khoj kisne ki thi in Hindi

Facebook
WhatsApp
Telegram

इसमें आप Bharat ki khoj kisne ki thi – भारत की खोज किसने की थी, भारत की खोज किसने की, bharat ki khoj kisne ki, bharat ki khoj kisne ki thi in hindi, भारत की खोज कब हुई, भारत की खोज कैसे हुई, भारत की खोज किसने किया था आदि प्रश्न का समाधान पा सकते हैं।

हम बचपन से ही पढ़ते आये हैं की भारत की खोज की गई है। क्या दुनियाँ को इससे पहले भारत के बारे में पता नहीं था। क्या दुनियाँ के नक्शे में भारत का वजूद नहीं था। क्या इसके पहले भारत का नाम से दुनियाँ अनभिज्ञ था।

भारत तो आदिकाल से जहाँ है वहीं अवस्थित है। भारत लुप्त होने वाली चीज थोड़े है की उसकी खोज की गई। भारत का आस्तित्व तो वैदिक युग से है।

दुनियाँ भारत और भारतीय सभ्यता और संस्कृति से पहले से अवगत थे। दरअसल भारत की खोज नहीं बल्कि भारत तक पहुचने के लिय समुन्द्री मार्ग की खोज की गई थी।

जिसे हम किताबों में भारत की खोज के नाम से पढ़ते हैं। आज हम इस लेख के माध्यम से जानेंगे की भारत की खोज अर्थात भारत तक पहुचने की समुन्द्री मार्ग की खोज किसने की थी।

हम यह भी जानेंगे की आखिर भारत की खोज कैसे और कब हुई। भारत का खोज करने वाले शकस सबसे पहले भारत के किस भू-भाग पर पहुंचे। तो चलिये जानते हैं।

क्या आप जानते हैं भारत की खोज किसने की थी – Do you know who discovered India and how

भारत की खोज किसने की थी | Bharat ki khoj kisne ki thi in Hindi

भारत की खोज किसने की थी और कब की थी – Bharat ki khoj kisne ki thi aur kab ki thi

भारत सदियाँ से सोने की चिड़ियाँ का कहा जाता था। क्योंकि की प्राचीन काल में भारत धन्य धन से परिपूर्ण था। इसी कारण से व्यपारी यहाँ व्यपार करने के लिए हमेशा आकर्षित होते रहे।

वे समुंद के रास्ते एक देश से दूसरे देश व्यापार के क्रम में भ्रमण करते रहता था। समुन्द्री रास्ते अपने भ्रमण करने के दौरान सन 1498 ईस्वी में वासकोडिगामा ने भारत की खोज की थी।

तभी कहा जाता है की भारत की खोज वासकोडिगामा ने की थी। इसिहसकारों के अनुसार 20 मई 1498 को वासकोडिगामा ने केरल के पास भारत की धरती पर कदम रखा था।

वासकोडिगाम (VASCO DE GAMA) कौन था

वासकोडिगाम पुर्तगाल का रहने वाला था। जैसा की हम जानते हैं की वासकोडिगाम (Vasco da gama )एक समुन्द्री यात्री थे। वह समुन्द्री मार्ग के रास्ते भारत आने वाला यूरोप का पहला व्यक्ति था।

दरअसल वासकोडिगामा पश्चिमी से देशों से अपने नावों पर सवार होकर समुन्द्री मार्ग होते हुए भारत पहुंचा। हम यह भी कह सकते हैं की समुन्द्र के रास्ते पुर्तगाल से चलते हुए वासकोडिगाम ने पहली बार भारत की धरती पर कदम रखा।

भारत की खोज कैसे हुई

वासकोडिगामा अपने देश पुर्तगाल की राजधानी लिस्बन से समुन्द्र मार्ग से भारत की तरफ चला था। उन्होंने हजारों मील की यात्रा कर 20 मई 1498 को भारत के केरल राज्य के कालीकट के पास पहुंचा।

उसके बाद ही यूरोपीय देशों के लोगों को भारत पहुचने के लिए समुन्द्री मार्ग की जानकारी मिली। तभी से डच, पुर्तगाली, फ्रांसीसी और अंग्रेज भारत आने लगे। शुरू में वे मसाले के व्यापार के लिए भारत की तरफ रुख किया।    

कहते हैं की वासकोडिगामा को पुर्तगाल से चलकर दक्षिण अफ्रीका के केप ऑफ गुड होम होते हुए भारत पहुचने में करीव 2 साल का समय लग गया। इस दौरान उन्होंने करीव 25000 मील की लंबी दूरी तय की।

जब उन्होंने अपनी समुन्द्री यात्रा प्रारंभ की थी तब उनके जहाज पर 170 कुरु मेंबर सवार थे। लेकिन भारत पहुचते-पहुचते और वापस जाते समय उनके जहाज पर केबल 54 कुरु मेम्बर ही शेष बचे थे।

भारत की खोज की कहानी – – Bharat ki khoj kisne ki thi in Hindi

जानते हैं वाककोडिगामा से पहले भारत की खोज करने कोलंबस भी निकले थे। लेकिन वे भारत पहुचने के वजाय अमेरिका पहुँच गये।

कोलंबस अपने समुन्द्री यात्रा के क्रम में जब एक स्थल पर पहुचे तो उन्हें लगा की वे भारत आ गये। वहाँ के लोगों को उन्होंने एंग्लो इंडियन कह कर पुकारा।

बाद में पता चला की वे भारत नहीं बल्कि अमेरिका के एक भू-भाग पर पहुंचे हैं। इस प्रकार कोलंबस ने अमेरिका की खोज की थी। अभी भी अमेरिका के इस जगह के लोगों को एंग्लो इंडियन के नाम से जाना जाता है।

लेकिन भारत के खोज का श्रेय वाककोडिगामा को जाता है। क्योंकि वाककोडिगामा ने 20 मई 1498 को भारत के केरल में कदम रखा था।

इन्हें भी पढ़ें :

अंत में

तभी कहा जाता है की यूरोप से भारत तक की समुद्री मार्ग की खोज वास्को डी गामा ने किया था। इसी कारण से वास्को डी गामा को डिस्कवरी ऑफ इंडिया के नाम से भी जाना जाता है।

अपने जीवन काल में वास्को डी गामा ने 3 बार भारत की यात्रा की थीं। उनकी भारत की अंतिम समुन्द्री यात्रा 1524 में मानी जाती है।

कहा जाता है वे अपने अंतिम यात्रा में मलेरिया से गंभीर रूप से पीड़ित हो गए। इस प्रकार 24 दिसंबर 1524 को केरल के कोच्चि में उनका निधन हो गया।

लोगों ने पूछा (F.A.Q)

प्रश्न – भारत के समुद्री मार्ग की खोज किसने की थी ?

उत्तर – वास्कोडिगामा ने 1498 में भारत के समुन्द्री मार्ग की खोज की थी।

प्रश्न – पाकिस्तान की खोज किसने की?

उत्तर – पाकिस्तान शब्द का जन्म सन् 1933 में कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय के छात्र चौधरी रहमत अली के द्वारा हुआ।
इसके पहले सन् 1930 में शायर मुहम्मद इक़बाल ने भारत के उत्तर-पश्चिमी चार प्रान्तों -सिन्ध, बलूचिस्तान, पंजाब तथा अफ़गान (सूबा-ए-सरहद)- को मिलाकर एक अलग राष्ट्र का मांग की थी।

प्रश्न – वायरस की खोज किसने की थी

उत्तर – वायरस की खोज इवानोवस्की (Ivanowsky) ने 1892 ई. में तम्बाकू की पत्ती के मोजैक रोग का अध्ययन करते हुए की थी।

प्रश्न – पृथ्वी की खोज किसने की थी?

उत्तर – निकोलस कोपरनिकस वह व्यक्ति था जिसने पृथ्वी की खोज केवल सूर्य के चारों ओर घूमने वाले ग्रहों के बीच की थी। उन्होंने सौर प्रणाली का एक मॉडल प्रस्तुत किया जो प्रकृति में सहायक था।
यह बाद में पृथ्वी की खोज के बारे में कुछ स्थापित तथ्यों में से एक बन गया। उनके इस कथन को गैलीलियो ने भी पुष्टि की।

बाहरी कड़ियाँ

भारत की खोज किसने की

आपको भारत की खोज किसने की थी ( Bharat ki khoj kisne ki thi ) शीर्षक वाली वेबसाईट जरूर अच्छी लगी होगी।

Leave a comment

Trending Posts