जूनागढ़ क़िला बीकानेर सम्पूर्ण जानकारी | Junagarh fort Bikaner Information in Hindi

Junagarh fort Bikaner Information in Hindi

जूनागढ़ क़िला बीकानेर सम्पूर्ण जानकारी | Junagarh fort Bikaner Information in Hindi

Facebook
WhatsApp
Telegram

Junagarh fort Bikaner Information in Hindi, जूनागढ़ क़िला बीकानेर राजस्थान, जूनागढ़ दुर्ग बीकानेर की पूरी जानकारी, Information about Junagadh Fort Bikaner in Hindi, Junagarh fort Bikaner Information in Hindi, जूनागढ़ क़िला बीकानेर की रोचक बातें,

राजस्थान के बीकानेर शहर में स्थित जूनागढ़ किला बीकानेर शहर की पहचान है। इस खूबसूरत किले के चारो तरफ बीकानेर शहर बसा अवस्थित है। इस किले की बनावट और संरचना सैलानी को अपनी ओर आकर्षित करती है।

इस किले की शुरात 1478 ईस्वी में राव बीका द्वारा शुरू की गई थी। जिन्होंने 1472 में बीकानेर शहर की स्थापना की थी। जब जूनागढ़ के राजा राय सिंह ने इस किले का निर्माण करवाया था।

तब इस किले को बीकानेर किले के नाम से जाना जाता था। बाद में इस किले का नाम बदलकर बीकानेर किला रख दिया गया। बीकानेर के जूनागढ़ किले परिसर में स्थित कई महल हैं जिनकी अपनी खास पहचान है।

जूनागढ़ क़िला बीकानेर की सम्पूर्ण जानकारी | Junagarh fort Bikaner Information in Hindi
जूनागढ़ क़िला बीकानेर की सम्पूर्ण जानकारी ( Junagarh fort Bikaner Information in Hindi)

इन महलों की नक्काशीदार दीवारें, पिलर पर लगे सुंदर संगमरमर के पत्थर तथा इस में लगे लाल पत्थर किले की भव्यता को दुनित करता है।

पर्यटन की दृष्टिकोण से बीकानेर किला राजस्थान के प्रसिद्ध पर्यटन स्थल में से एक है। किले की आकर्षक भव्यता को देखकर पर्यटक आश्चर्यचकित रह जाते हैं। आईये इस लेख में जूनागढ़ क़िला बीकानेर राजस्थान के बारें में विस्तार से जानते हैं।

जूनागढ़ क़िला बीकानेर राजस्थान संक्षित जानकारी – Junagarh fort Bikaner Information in Hindi

किले के नाम जूनागढ़ क़िला बीकानेर, बीकानेर किला, बीकानेर दुर्ग
निर्माणकाल 1588 से 1594 के मध्य
निर्माणकर्ता राजा रायसिंह
भौगोलिक स्थिति बीकानेर, राजस्थान भारत

बीकानेर जूनागढ़ किले का इतिहास – History of Junagadh Fort Bikaner In Hindi

जूनागढ़ क़िला बीकानेर राजस्थान का इतिहास से पता चलता है की जूनागढ़ के पुराने गढ़ की नींव बीकानेर के संस्थापक राव बीकाजी ने किया था। राती घाटी चट्टान पर स्थति इसी गढ़ के ऊपर राजा रायसिंह ने 1645 ईस्वी में बीकानेर के जूनागढ़ किले का निर्माण करवाया था।

इस अभेद किला पर कभी किसी ने कब्जा नहीं कर पाया। एक बार कहा जाता है की बाबर के बेटे कामरान मिर्जा ने सिर्फ एक दिन के लिए इस किले पर कब्जा रख पाए थे। आगे चलकर यहाँ के राजा ने मुगल शासन को स्वीकार कर अपनी गद्दी कायम रखी।

किले की बनावट और संरचना

चतुष्कोणीय या चतुर्भुजाकृति में निर्मित जूनागढ़ किला बीकानेर की बनावट और संरचना अद्भुत है। राजस्थानी और इस्लामिक शैली के संयुक्त मिश्रण इस किले के बनावट में साफ देखा जा सकता है।

इस किले में प्रवेश के लिए कई द्वारा बने हैं। लेकिन इसके दो दरवाजे पूर्वी दरवाजा कर्णपोल’ और पश्चिमी दरवाजा ‘चाँदपोल’ प्रसिद्ध हैं। इसके अलावा भी बीकानेर दुर्ग में 5 आतंरिक दरवाजे भी बने हैं। जिसके नाम रतनपोल, सूरजपोल दौलतपोल, फतेहपोल और ध्रुवपोल हैं।

इस किले के अंदर बने कई महल और मंदिर दर्शनीय हैं। किले में स्थित जूनागढ़ महल की बात करें तो इसमें अनूप महल, लालगढ़ महल, फूल महल व गजमन्दिर महल, कर्ण महल की सुंदर नक्काकासी दर्शक को बेहद आकर्षित करती है।

किले में स्थित अनूप महल जिसका निर्माण महाराजा अनूपसिंह द्वारा करवाया था। सुनहरे रंग से इस महल के दीवारों और खंभों पर किया गया बारीक काम बेहद सुंदर है। कहा जाता है की इस स्थान पर बीकानेर के होने वाले राजाओं का राजतिलक किया जाता था।

इस किले परिसर में रामसर व रानीसर नामक दो बड़े कुएँ स्थित हैं। अथाह जलराशि वाले इस कुएँ का उपयोग किले के अंदर जलपूर्ति के लिए किया जाता था।

वेब स्टोरी जूनागढ़ क़िला बीकानेर राजस्थान – Web stories Junagarh fort Bikaner Rajasthan in Hindi

राजस्थान के बीकानेर किले के बारें में वेब स्टोरी के माध्यम से जानने के लिए इसे पढ़ें। इस वेब स्टोरी में जूनागढ़ क़िला बीकानेर राजस्थान (Junagarh fort Bikaner )के बारें में विस्तार से जानकारी प्रदान की गई है।

हमें आशा है की यह वेब स्टोरी आपको जरूर पसंद आएगी। वेब स्टोरी पढ़ने के लिए नीचे क्लिक कर पेज पर विज़िट कर सकते हैं।

जूनागढ़ क़िला बीकानेर राजस्थान के कई नाम

राजस्थान के इस किला का कई नामों से जाना जाता है। इसे जूनागढ़ किला, चिंतामणि किला, बीकानेर का किला आदि नामों से जाना जाता है।

बीकानेर दुर्ग का निर्माण राती घाटी नामक चट्टान पर होने के कारण इस दुर्ग को राती घाटी का किला भी कहा जाता है। इसके अलावा इसे जूनागढ़ दुर्ग, ‘धान्वन दुर्ग’ और ज़मीन का ज़ेवर नाम से भी पुकारा जाता है।

जूनागढ़ किले का रहस्य

यह किला उत्कृट वास्तुकला का सुंदर नमूना है। राजा रायसिंह के राज्य में जूनागढ़ किले का निर्माण कराया गया था। इस किले के बारें में कहा जाता है की कभी लंबे समय तक को अन्य शासक यहाँ कब्जा नहीं कर पाया।

यहाँ तक कहा जाता है की यह किला कभी अधीन नहीं हुआ। इतिहास में इस बात की चर्चा मिलती है की बाबर के दूसरे बेटे कामरान मिर्जा ने सिर्फ एक दिन के लिए इस किले पर कब्जा कर पाया था। बाद में उसे भी इस किले को छोड़ना पड़ा।

इसकी भव्यता को देखकर कहा जाता है की इस दुर्ग की दीवारें बोलती भी है। जो इस दुर्ग को एक बार देख लेता है उसे बार-बार यहाँ आने का मन करता है।

जूनागढ़ क़िला बीकानेर के पास अन्य दर्शनीय स्थल

जूनागढ़ क़िला बीकानेर राजस्थान किले में खूबसूरत महल, यहाँ के मुख्य द्वार तो देखने लायक हैं ही। लेकिन इसके अलावा भी इस किले परिसर और इसके आसपास कई दर्शनीय स्थल हैं। आइये बीकानेर में घूमने की जगह के बारें में जानते हैं।

छन्न निवास – यह स्थान पर बने भगवान श्रीकृष्ण की रासलीला के सजीव चित्रण पर्यटक को आकर्षित करती है।

तैंतीस करोड़ देवी–देवताओं का मंदिर – जूनागढ़ किले परिसर में तैंतीस करोड़ देवी–देवताओं का मंदिर दर्शनीय हैं। यहाँ गणपति बप्पा की दुर्लभ प्रतिमा भी दर्शिनिय है। इस गणपती प्रतिमा को सिंह पर सवार दिखाया गया है।

इसके अलावा यहाँ हर मंदिर भी दर्शनीय है। इसके अलावा यहाँ स्थित घंटाघर भी दर्शनीय है। इस घंटाघर के बारें मे कहा जाता है की इसे राजा डूंगरसिंह ने बनवाया था।

सूरसागर – इस खूबसूरत झील का निर्माण राजा सूरसिंह द्वारा करवाया गया था। इस झील में पर्यटक नौकायन का आनंद ले सकते हैं।

जूनागढ़ दुर्ग का संग्रहालय – बीकानेर किले के इस संग्रहालय राजा महाराजा से जुड़ी कई यादगार चीजें देखने योग्य है। कहा जाता है है की इस संग्रहालय में देवी सरस्वती की दुर्लभ प्रतिमा रखी है जिसे हजार साल प्राचीन मानी जाती है।

इस किले में बने हुए संग्रहलय पर्यटकों के आकर्षण के केंद्र हैं। यहाँ राजा महाराजा के दुर्लभ चित्र, हथियार, गहने और प्रथम विश्व युद्ध के प्लेन देखने योग्य है।

जूनागढ़ क़िला बीकानेर की रोचक बातें

  • जूनागढ़ का क़िला भारत के राजस्थान में बीकानेर शहर के मध्य स्थित है। राजस्थान के बीकानेर शहर में स्थित इस दुर्ग को पहले बीकानेर किला कहते थे।
  • कहते हैं की राजस्थान के बीकानेर किले का मूल नाम चिंतामणी दुर्ग था। जिसका 20 वीं सदी में नाम प्रवर्तित कर जूनागढ़ या पुराना किला कर दिया गया।
  • इस दुर्ग की स्थापना राती घाटी के चट्टान पर हुआ है। इस कारण से बीकानेर दुर्ग को राती घाटी का किला भी कहते हैं।
  • जूनागढ़ दुर्ग का निर्माण चतुष्कोणीय या चतुर्भुजाकृति में हुआ है। इसकी सुंदरता और भव्यता के कारण ही जूनागढ़ दुर्ग को जमीन का जेवर किला कहा जाता है।
  • जूनागढ़ क़िले की स्थापना अकबर के समकालीन राजा राय सिंह ने की थी। लेकिन इस किले का वर्तमान स्वरूप 1593 के आसपास महाराजा गंगा सिंह ने दिया।
  • लाल बलुए पत्थर और संगमरमर से बने इस किले के आकर्षक महल, छतरियों, खिड़कियाँ और किले की दीवारों पर खूबसूरत पेंटिंग दर्शक को खूब आकर्षित करती है।
  • इस किले की सुरक्षा हेतु क़िले के चारों तरफ लंबी दीवार और किले में 35 से भी ज्यादा  बुर्ज बने हुए हैं।
  • जूनागढ़ दुर्गे में दो मुख्य द्वार हैं, जिसमें से एक का नाम कर्णपोल और दूसरा का नाम ‘चाँदपोल है। इसके अलावा भी इस किले में पांच और आंतरिक दरवाजे हैं।
  • कहा जाता है की दोलतपोल द्वार पर सती हुई राजपूत राजाओ की रानियों के हाथों की छाप है। इस किले के अंदर बने कई खुबसूरत महल अपनी अलग पहचान रखती हैं।
  • किले के इन महलों में अनूप महल, फूल महल व गजमन्दिर महल, कर्ण महल, बादल महल, चंद्र महल आदि प्रसिद्ध हैं। किले के अनूप महल में बीकानेर के राजाओं का राजतिलक होता था।
  • इन महलों के अलावा यहाँ छन्न निवास, हर मंदिर, घंटाघर, सूरसिंह द्वारा निर्मित सूरसागर झील भी पर्यटक को खूब आकर्षित करती है।
  • जूनागढ़ दुर्ग राजस्थान के दुर्गों में सर्वाधिक महलों वाला दुर्ग कहलाता है। जूनागढ़ दुर्ग राजस्थान का पहला दुर्ग है जहाँ सर्वप्रथम लिफट का प्रयोग हुआ।
  • दुश्मनों को गहरी खाई और मजबूत दीवार को पार कर किले को जितना संभव नहीं था। तभी तो राजस्थान का यह एकमात्र किला जस पर दुश्मन आसानी से आक्रमण नही कर सका।
  • वर्षों से यह किला अपने अपराजेय शक्ति के साथ स्वाभिमान से खड़ा है। कहते हैं की इस किले पर मुगलों द्वारा मात्र कुछ घंटों के लिए फतह का जिक्र मिलता है।
  • इस किले में बने हुए संग्रहलय पर्यटकों के आकर्षण के केंद्र हैं। यहाँ राजा महाराजा के दुर्लभ चित्र, हथियार, गहने और प्रथम विश्व युद्ध के प्लेन देखने योग्य है।
  • किले में स्थति तैंतीस करोड़ देवी-देवताओं का मंदिर दर्शनीय है। जिसमें राजाओं द्वारा 700 से अधिक कांस्य प्रतिमा स्थापति हैं।

जानने की बातें (FAQ)

जूनागढ़ का किला क्यों प्रसिद्ध है?

राजस्थान के बीकानेर स्थित जूनागढ़ किला की गिनती भारत के सबसे सुंदरतम किले में होती है। इस किले की भव्यता राजस्थान के अतीति के गौरवशाली इतिहास की झलक प्रस्तुत करता है।

जूनागढ़ का किला कहां है?

जूनागढ़ का किला राजस्थान के बीकानेर शहर में स्थित है। राजस्थान में स्थित इस किले जूनागढ़ का निर्माण राजा रायसिंह ने करवाया था।

जूनागढ़ के किले का पुराना नाम क्या है?

जूनागढ़ किला बीकानेर में भारत के राजस्थान राज्य में स्थित प्रसिद्ध किला है। पहले इस किले को चिंतामणि कहा जाता था। लेकिन कलांतर में इस किले का नाम परिवर्तित कर जूनागढ़ किला” कर दिया गया।

लाल किले का इतिहास और पूरी जानकारी

बुलंद दरवाजा का इतिहास और जानकारी

Junagadh Durg Bikaner information

Leave a Comment

Trending Posts