Sakshi Malik in Hindi: ओलंपिक-कॉमनवेल्थ में धमाल मचाने वाली साक्षी मालिक ने रोते हुए लिया संन्यास?

By Amit
Sakshi Malik in Hindi
Sakshi Malik in Hindi

Sakshi Malik in Hindi: भारतीय की स्टार महिला पहलवान साक्षी मलिक ने आज गुरुवार 21 दिसंबर को नाराज होकर एकाएक कुस्ती से संन्यास का ऐलान कर सबको चौंका दिया।

कहा जाता है की साक्षी मलिक रेसलिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया (WFI) के सम्पन्न हुए चुनाव में पूर्व अध्यक्ष बृज भूषण शरण सिंह के करीबी संजय सिंह के जीत से नाखुश थी।

कौन हैं साक्षी मलिक

छोटे-छोटे गांवों से भी निकालकर आज बेटियाँ विश्व पटल पर देश का नाम रोशन कर रही है। आज की बेटियां बेटा से कम नहीं है। बेटियाँ आज वह सब हासिल कर रही हैं जो कभी सिर्फ पुरुष ही कर सकते थे।

ऐसी ही देश की एक बेटी का नाम है साक्षी मलिक। ओलंपिक में पदक जीतने वाली साक्षी मलिक भारत की पहली महिला पहलवान थीं। उन्होंने अपने प्रतिभा से सबको हैरान किया। वह अगली पीढ़ी के महिला पहलवानों के लिए एक मॉडल हैं।

- Advertisement -

WFI के अध्यक्ष पद पर महिला की नियुक्ति की मांग

बताते चले की साक्षी मलिक, फोगट और बजरंग पुनिया आदि पहलवान रेसलिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया के अध्यक्ष पद पर महिला की नियुक्ति की मांग कर रही हैं।

रेसलिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया के अध्यक्ष पद इन सभी पहलवानों की मांग की थी कि की महिला को बैठाया जाय। लेकिन संजय सिंह को अध्यक्ष बनने के बाद साक्षी मलिक ने कुश्ती से सन्यास की घोषणा कर दी।

कौन है संजय सिंह जिसे अध्यक्ष बनने के बाद साक्षी मलिक ने कुश्ती छोड़ी

संजय सिंह पूर्व रेसलिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया के अध्यक्ष के करीबी माने जाते हैं। जिस पर महिला पहलवानों ने शोषण का आरोप लगाया था।

साक्षी मलिक 2016 ओलंपिक में आई सुर्खियों में –

कुश्ती में भारतीय महिला रेसलर साक्षी मलिक का करियर शानदार रहा है। उन्होंने 2016 में रियो ओलंपिक में महिलाओं के 58 किलोग्राम वर्ग में कांस्य पदक जीतकर इतिहास रच दिया था। यह रियो ओलंपिक में किसी भारतीय महिला पहलवान के लिए पहला पदक था।

उसके बाद 2022 में साक्षी मलिक ने बर्मिंघम कॉमनवेल्थ गेम्स में गोल्ड मेडल अपने नाम किया। उन्होंने 2022 में ही ट्यूनीशिया रैंकिंग सीरीज़ इवेंट में कांस्य भी जीता।

रियो ओलंपिक गेम से पहले साक्षी मलिक ने 2014 CWG में रजत और 2015 में दोहा में सम्पन्न एशियाई कुश्ती चैम्पियनशिप में कांस्य पदक जीती था। वर्तमान में साक्षी मलिक भारतीय रेलवे के दिल्ली डिवीजन के उत्तरी रेलवे क्षेत्र के वाणिज्यिक विभाग से जुड़ी हैं। अपने करियर में साक्षी मलिक ने ढेर सारे मेडल अपने नाम किए। आई जानते हैं उनके मेडल के बारें में :-

साक्षी मलिक द्वारा जीती गई मेडल

  • कॉमनवेल्थ गेम्स 2014 – सिल्वर मेडल
  • कॉमनवेल्थ चैम्पियनशिप 2013 – ब्रॉन्ज मेडल
  • एशियन चैम्पियनशिप 2015 – ब्रॉन्ज मेडल
  • ओलंपिक 2016 – ब्रॉन्ज मेडल
  • एशियन चैम्पियनशिप 2017 – सिल्वर मेडल
  • कॉमनवेल्थ चैम्पियनशिप 2017 – गोल्ड मेडल
  • एशियन चैम्पियनशिप 2018 – ब्रॉन्ज मेडल
  • कॉमनवेल्थ गेम्स 2018 – ब्रॉन्ज मेडल
  • एशियन चैम्पियनशिप 2019 – ब्रॉन्ज मेडल
  • कॉमनवेल्थ गेम्स 2022 – गोल्ड मेडल

साक्षी मलिक का जीवन परिचय

भारतीय फ्रीस्टाइल महिला पहलवान साक्षी मलिक का जन्म 3 सितंबर 1992 को हरियाणा के रोहतक जिले के मोखरा गांव में हुआ था । उनके पिता सुखबीर दिल्ली परिवहन निगम में बस कंडक्टर के रूप में काम करते थे।

उनकी माता जी सुदेश मलिक एक स्थानीय हेल्थ क्लीनिक में कार्यरत थी। बचपन से साक्षी मलिक को कुश्ती में रुचि थी। उनके कोच कोच ईश्वर दहिया ने भारतीय स्टार पहलवान साक्षी को 12 साल की उम्र में कुश्ती की ट्रेनिंग देनी शुरू कर दी थी।

Share This Article