छत्तीसगढ़ की सपूर्ण जानकारी – Information about Chhattisgarh in Hindi

छत्तीसगढ़ की सपूर्ण जानकारी – Information about Chhattisgarh in Hindi

छत्तीसगढ़ (State of India) भारत का 26 वां राज्य है। वनों से अच्छादित, दूर दूर तक फैले धान के खेत इस राज्य की समृद्धता का घोतक है। घान की खूब पैदावार होने के कारण छत्तीसगढ़ को ‘धान का कटोरा’ कहा जाता है।

वैसे तो इस प्रदेश का गठन सन 2000 ईस्वी में हुआ। लेकिन छत्तीसगढ़ का इतिहास पौराणिक माना जाता है। पौराणिक समय में यह प्रदेश ऋषियों और मुनियों की तपस्थली रही है।

कहा जाता है की यह प्रदेश प्राचीन ऋषि अत्री, अगस्त, शृंगी आदि का तपोस्थल रहा है। छत्तीसगढ़ को प्राचीन काल में ‘दक्षिण कौशल’ प्रदेश के नाम से जाना जाता था।

इस लेख में छत्तीसगढ़ का इतिहास, यहाँ की संस्कृति, छत्तीसगढ़ की विशेषताएं, रहन सहन, वेशभूषा, chhattisgarh general knowledge in hindi और राज्यों के गठन का सम्पूर्ण वर्णन दिया गया है।

छत्तीसगढ़ की सपूर्ण जानकारी | INFORMATION ABOUT CHHATTISGARH IN HINDI
छत्तीसगढ़ की सपूर्ण जानकारी – INFORMATION ABOUT CHHATTISGARH IN HINDI

छतीसगढ़ के बारे में जानकारी – Brief Information about Chhattisgarh in Hindi

राज्य का नामछत्तीसगढ़ (Chhattisgarh )
छत्तीसगढ़ की राजधानीरायपुर
राज्य की स्थापना दिवस01 नबम्बर 2000
छत्तीसगढ़ का क्षेत्रफल135,100 वर्ग किमी.
छत्तीसगढ़ का राजकीय पशु(State Animal)जंगली भैसा
छत्तीसगढ़ की राजकीय पक्षी(State Bird)  पहाड़ी मैना  
छत्तीसगढ़ की राजकीय फूल(State flower)  पलास
छत्तीसगढ़ की राजकीय वृक्ष(State Tree)साल
छत्तीसगढ़ का राजकीय फल (state fruit )कटहल
छत्तीसगढ़ के प्रथम राज्यपालदिनेश नंदन सहाय
छत्तीसगढ़ के प्रथम मुख्यमंत्रीअजीत योगी
छत्तीसगढ़ में कुल जिले की संख्या28
राज्य में लोकसभा की कुल सीटें11
राज्य में राज्‍यसभा की कुल सीटें05
विधानसभा की कुल सीटें90
Chhattisgarh gk in hindi

छत्तीसगढ़ का इतिहास और जानकारी – history of chhattisgarh in hindi

छत्तीसगढ़ का प्राचीन इतिहास की बात की जाय तो प्राचीनकाल में यह प्रदेश कई नामों से जाना जाता था। त्रेता युग में छत्तीसगढ़ दक्षिण कोशल प्रदेश के नाम से जाना जाता था।

द्वापर में यह प्राक कौशल तथा महाजनपद के समय में कौशल महा-जनपद के नाम से चर्चित रहा। बौद्ध धर्म के ग्रंथों में भी इसका उल्लेख मिलता है। बौद्ध धर्म के पुस्तक में वर्णित 16 महाजनपतों में से एक कौसल प्रदेश भी है।

इस प्रदेश की चर्चा हिन्दू धर्म ग्रंथों में भी मिलती है। इस प्रदेश में 36 गढ़ होने के कारण ही यह छत्तीसगढ़ कहलाया। ये 36 गढ़ वहाँ के प्रसिद्ध नदी शिवनाथ के उत्तर और दक्षिण तरफ स्थित था।

इस नदी के उत्तर और दक्षिण में 18-18 गढ़ स्थित थे। नदी के दक्षिण में स्थित गढ़ रायपुर कलचुरी वंश के आधिपत्य में था। जबकि नदी के उत्तर में स्थित गढ़ रतनपुर कलचुरी वंश के अधीन था।  

छत्तीसगढ़ का मध्यकालीन इतिहास – chhattisgarh history in hindi

मध्य काल में इस प्रदेश पर कई राजवंशों का शासन रहा। इस प्रदेश पर मेघवंश, बाणवंश, राजर्षितुल्यकुल, पर्वद्वारकवंश, नलवंश, शरभपुरी वंश और कलचूरी वंश का शासन था।

यह प्रदेश कलचुरि शासन में 36 गढ़ों में विभक्त था। कलांतर में यहाँ पाण्डू वंश, सोमवंश, चालुक्य और हैहय राजवंश के शासकों के शासन का गवाह रहा है। सन 1741 ईस्वी में इस प्रदेश पर मराठों ने चढ़ाई कर अपना अधिपत्य कायम किया।

मराठों ने विजय के बाद बिंबाजी भोंसले को इस प्रदेश का शासक नियुक्त किया। इसी प्रकार राजनीतिक उठापटक चलता रहा तथा यह प्रदेश अंग्रेजों के अधीन हो गया।

अंग्रेजों से भारत को आजाद कराने के लिए इस प्रदेश के लोगों का अहम योगदान रहा है। स्वतंत्रता आंदोलन में यहाँ के आम जन के साथ-साथ यहाँ के आदिवासी ने भी बढ-चढ़ कर हिस्सा लिया।  

छत्तीसगढ़ का आधुनिक इतिहास – chhattisgarh ka itihaas

भारत की सन 1947 में आजादी के साथ ही छत्तीसगढ़ के लोग एक अलग राज्य चाहते थे। लेकिन आजादी के बाद इसे मध्यप्रदेश राज्य का हिस्सा बनाया गया।

लेकिन यहाँ के लोग समय समय पर अलग राज्य की मांग उठाते रहे। सन 1993 में तत्कालीन कांग्रेस सरकार ने पहली बार अपनी चुनावी घोषणा पत्र में छत्तीसगढ़ राज्य की चर्चा की।

छत्तीसगढ़ राज्य की पूरी जानकारी – Complete information of Chhattisgarh in Hindi

छत्तीसगढ़ राज्य का गठन

लेकिन सन 2000 में तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल विहारी बाजपेयी जी के कार्यकाल में छत्तीसगढ़ का गठन हुआ। इस प्रकार 1 नवंबर 2000 को भारत के 26 वें राज्य के रूप में छत्तीसगढ़ की स्थापना हुई।

छत्तीसगढ़ का अर्थ – chhattisgarh meaning in hindi

छत्तीसगढ़ का किला इतिहास में प्रसिद्ध है। राजवंशों के शासन के दौरान यह छत्तीस-गढ़ों का भू-भाग कहलाता था। इस कारण से इस प्रदेश का नाम “छत्तीसगढ़” रखा गया।

छत्तीसगढ़ के 29 जिलों के नाम

भारत के राज्य छत्तीसगढ़ की स्थापना मध्यप्रदेश के 16 जिलों को जोड़कर की गई। लेकिन वर्तमान में जिलों की संख्या बढ़कर 28 हो गई है। क्षेत्रफल की दृष्टि से छत्तीसगढ़ का सबसे बड़ा जिला रायपुर और जनसंख्या की दृष्टि से दुर्ग है।

छत्तीसगढ़ की सपूर्ण जानकारी | Information about Chhattisgarh in Hindi
छत्तीसगढ़ की सपूर्ण जानकारी | INFORMATION ABOUT CHHATTISGARH IN HINDI

छत्तीसगढ़ के जिलों के नाम हैं। बस्तर, बालोद, बलोद बजार, बलरामपुर, बेमेतरा, बिलासपुर, बीजापुर, दुर्ग, धमतरी, दाँतेवाड़ा, जांजगिर चंपा, गरीबंद, जशपुर, कबीरधाम, कांकेर, कोरबा, कोंडा गाँव, कोरिया, महासमुन्द्र,

रायगढ़, सुकमा, राजनन्द गाँव, रायपुर, नारायणपुर, मुंगेली, सरगुजा, सूरजपुर और गौरेला-पेण्ड्रा-मरवाही।     

छत्तीसगढ़ की राजव्यवस्था

छत्तीसगढ़ विधान सभा और राजव्यवस्था में नजर डालें तो यह प्रदेश 90 विधान सभा क्षेत्रों में विभक्त है। इस प्रदेश से 11 लोकसभा और 5 राज्य सभा के सांसद चुने जाते हैं।

सन 2000 ईस्वी में राज्य के गठन के बाद रायपुर को इसकी राजधानी बनाई गई। राज्य के पहले मुख्य मंत्री बनने का श्रेय अजीत जोगी को जाता है। छत्तीसगढ़ के प्रमुख शहरों के नाम में रायपुर, भिलाई, दुर्ग, बिलासपुर आदि के नाम शामिल हैं।

इस प्रदेश का सबसे बड़ा शहर में रायपुर का नाम आता है। छत्तीसगढ़ का सबसे बड़ा गांव कौन सा है ज्ञात लेकिन इस राज्य में कुल 4637 गाँव हैं। एक आकडे के अनुसार सबसे ज्यादा गाँव दुर्ग और सबसे कम गाँव नारायणपुर जिले में स्थित है।

छत्तीसगढ़ की राजधानी – Capital of Chhattisgarh in Hindi

भारत के राज्य छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) की राजधानी रायपुर है। अब छत्तीसगढ़ की राजधानी का नया नाम अटल नगर होगा। क्योंकि तत्कालीन मुख्यमंत्री रमन सिंह के कार्यकाल में एक प्रस्ताव पास हुआ।

इसमें रायपुर का नाम परिवर्तित कर अटल नगर रखने का निर्णय किया गया है। छत्तीसगढ़ की न्यायिक राजधानी बिलासपुर में है। क्योंकि बिलासपुर में इस प्रदेश का उच्च न्यायालय स्थित  है।

छत्तीसगढ़ की भाषा – Chhattisgarh language in Hindi

छत्तीसगढ़ की राजभाषा भाषा हिन्दी है जिसे आधिकारिक भाषा का दर्जा प्राप्त है। यदपि इस राज्य की अधिकांश आबादी छत्तीसगढ़ी भाषा बोलती है। जो हिन्दी का ही एक रूप है।

छत्तीसगढ़ी भाषा की अपनी लिपि, समृद्ध साहित्य और व्याकरण है। इसे हिन्दी के समान ही देवनागरी लिपि में लिखी जाती है। छत्तीसगढ़ी के साथ यहाँ बुंदेली, मराठी, तेलगु, उडि़या और भोजपुरी भाषा भी बोली जाती है।

इसके अलाबा आदिवासी बहुल क्षेत्र होने के कारण यहाँ कई अन्य भाषाएं भी प्रचलित है। छत्तीसगढ़ की बोलियों को उनके भाषा परिवार के आधार पर तीन प्रमुख वर्ग जैसे आर्य, द्रविड और मुंडा में बांटा गया है।  

छत्तीसगढ़ की संस्कृति – culture of chhattisgarh in hindi

छत्तीसगढ़ की संस्कृति (chhattisgarh ki sanskriti) यहाँ के खान-पान, रहन सहन, वेशभूषा और मनाये जाने वाले त्योहार में साफ परिलक्षित होती है।

यहाँ के नृत्य और त्योहार के दौरान छत्तीसगढ़ की लोक संस्कृति की भी झलक देखने को मिलती है। अति प्राचीनकाल से यह प्रदेश कई संस्कृतियों के विकास का केंद्र रहा है।

यहाँ के प्राचीन मंदिरों और स्मारकों से पता चलता है की इस क्षेत्र में वैष्णव, शाक्त, शैव और बौद्ध संस्कृति का गहरा प्रभाव रहा है। इस प्रकार छत्तीसगढ़ में समृद्ध सांकृतिक विविधता स्पष्ट रूप में देखने को मिलती है।

यह एक आदिवासी बहुल राज्य है। यहाँ निवास करने वाली विभिन्न आदिवासी द्वारा प्रस्तुत नृत्य, गायन छत्तीसगढ़ की संस्कृति की पहचान है।

छत्तीसगढ़ के लोक नृत्य की बात की जाय तो इसमें करम नृत्य, सुआ नृत्य, पंथी नृत्य, हुल्की नृत्य,, गौरा और सरहुल नृत्य प्रसिद्ध हैं।

छत्तीसगढ़ का रहन सहन

यहाँ के लोगों का रहन सहन भारत के अन्य राज्यों के समान ही हैं। यहाँ के लोग अधिकतर खेतिहर मजदूर हैं। पुरुष की तुलना में महिलायें अधिक मेहनती मानी जाती है। छत्तीसगढ़ के लोगों के आजीविका का मुख्य साधन कृषि है।

लोग पक्के और फूस के बने मकान में रहते हैं। यहाँ के आदिवासी लोगों का रहन सहन शेष लोगों से भिन्न है। 

छत्तीसगढ़ में मनाए जाने वाले त्योहार – festival of chhattisgarh in hindi

भारत के इस राज्य में सबसे अधिक आबादी हिन्दू की है। इस कारण यहाँ दशहरा, दीपावली, होली, तीज आदि त्योहार बड़े ही धूम-धाम से मनाया जाता है।

इसके अलावा यहाँ दूसरे संप्रदाय के द्वारा मुहरम, ईद, क्रिसमस आदि भी हर्षोल्लास के साथ मानयी जाती है।

छत्तीसगढ़ का खान-पान – Chhattisgarh food in Hindi

छत्तीसगढ़ का खान-पान पर नजर डालें तो छत्तीसगढ़ का मुख्य भोजन चावल है। यहाँ चावल(घान) की खेती बहुत होती है।

छत्तीसगढ के पारंपरिक व्यंजन में चीला, ठेठरी, गुलगुल भजिया, करी, सोहारी, अईरसा, पपची, बरा, अईरसाचौसेला और खुरमी आदि प्रसिद्ध है।

छत्तीसगढ़ के वेशभूषा – traditional dress of chattisgarh in hindi

यहाँ की वेशभूषा भारत के अन्य राज्यों से मिलती जुलती है। यह के लोग कुर्ता व धोती पहनते है और काँधें पर गमछा घारण करते हैं। जबकि महिलायें साड़ी और ब्लॉउज पहनती हैं।

छत्तीसगढ़ के युवा के पोशाक में शर्ट पेंट और जींस का प्रचलन है वहीं यहाँ की लड़कियां कुर्ती और पाजामा पहनती है। वहीं छत्तीसगढ़ के आदिवासी वेशभूषा में फर्क नजर आता है।

छत्तीसगढ़ के महिलाओं के आभूषण की बात की जाय तो यह अन्य राज्यों की तरह ही हैं। छत्तीसगढ़ के पारंपरिक आभूषण में पैर में पैजन, बिछिया और नाक में नथनी व फुल्ली धारण की जाती है।

महिलायें माथा में बिंदिया, कान में करण फूल व झुमका, हाथ में कंगन और सिर पर मांगमोती पहनती है।

छत्तीसगढ़ का भूगोल

करीब 136034 वर्ग किलो मीटर में फैला छत्तीसगढ़ भारत का एक मनोरम प्रदेश है। क्षेत्रफल के हिसाब से यह प्रदेश देश का 9 वां सबसे बड़ा राज्य है। छत्तीसगढ़ एक कृषि प्रधान राज्य है। यहाँ के करीब 35% भूभाग में खेती की जाती है।

छत्‍तीसगढ़ की चौहद्दी या सीमा के रूप में इसके पूरब में झारखंड और ओडिशा तथा पश्चिम में मध्‍य प्रदेश, और महाराष्ट्र स्थित है। छत्‍तीसगढ़ के नॉर्थ (उत्तर) दिशा में उत्‍तर प्रदेश और दक्षिण में आंध्र प्रदेश स्थित है।

जनसंख्‍या की दृष्टि से यह देश का 17वां राज्य है। छत्तीसगढ़ की नदियां में महानदी, अरपा, लीलागर, हसदो, मांड, इंद्रावती, सबरी, पैरी, सोंढूर और शिवनाथ,प्रमुख है।

छत्तीसगढ़ के प्रमुख शहर

रायपुर- छत्तीसगढ़ का सबसे बड़ा शहर रायपुर है। रायपुर का नाम कलचुरी वंश के राजा, राय ब्रह्मदेव और राय रामचंद के नाम पर पड़ा।

राज्य का गठन के बाद इस रायपुर को छत्तीसगढ़ की राजधानी के लिए चुना गया। रायपुर जूट उद्योग, दक्षिण-पूर्व रेलवे वर्कशॉप आदि के लिए प्रमुख हैं।

बिलासपुर- कहा जाता है की बिलासपुर नगर यहाँ निवास करने वाले एक मछुआरे की पत्नी बिलास केवातिन के नाम पर पड़ा। लोककथाओं के अनुसार बिलास केवातिन देखने में अत्यंत ही सुंदर थी।

कहते हैं की इस प्रदेश के राजा इस सुंदरी बिलास केवातिल के सुंदरता पर मोहित हो गये। राजा जबरदस्ती अपने साथ ले जाना चाहता था। लेकिन उस मछुआरण बिलास केवातिल को यह अच्छा नहीं लगा।

इस बात से दुखी होकर उस मछुआरण ने नदी मे कूद कर जान दे दी। तभी से यह स्थल बिलास केवातिन नाम ही विलासपुर के रूप में प्रसिद्ध हो गया। छत्तीसगढ़ का यह शहर सूती वस्त्र उद्योग के लिए प्रसिद्ध है।

दुर्ग- दुर्ग का मतलब किला से है। दुर्ग छत्तीसगढ़ का एक इतिहासिक शहर है। यह सीमेंट उद्योग के लिए पूरे भारत में प्रसिद्ध है।

भिलाई- छत्तीसगढ़ के भिलाई लौह इसपात कारखाने के लिए पूरे भारत में प्रसिद्ध है। यहाँ लोहे और कोयले की कई खाने स्थित हैं। इसके अलाबा यहाँ भारतीय रेलवे के कई सामानों का भी निर्माण होता है।

छत्तीसगढ़ के प्रमुख पर्यटन स्थल – Chhattisgarh tourism in Hindi

छत्तीसगढ़ के प्रमुख पर्यटन स्थल में यहाँ के इतिहासिक स्थल, जलप्रपात, राष्ट्रीय उधान और मंदिर देखने योग्य हैं। छत्तीसगढ़ में घूमने की जगह में कैलास गुफा भी प्रसिद्ध है।

छतीसगढ़ के प्रमुख पर्यटक स्थल में महामाया मंदिर, चित्रकोट जलप्रपात, तिरथगढ़ जलप्रपात, कैलास गुफा, अमरकंटक आदि प्रमुख हैं।

छत्तीसगढ़ के लोक गायक के नाम

तीजन बाई, दाऊ रामचंद्र देशमुख, दुलार सिंह मंदराजी,
झाडूराम देवांगन,

छत्तीसगढ़ राज्य की रोचक तथ्य – Interesting fact about Chhattisgarh in Hindi

  • छत्तीसगढ़ हिन्दू बहुल आबादी वाला प्रदेश हैं।
  • यहाँ 90% से अधिक हिन्दू संप्रदाय के लोग निवास करते हैं।
  • छत्तीसगढ़ को त्रेता युग में दक्षिण कौशल प्रदेश के नाम से जाना जाता था।
  • कहते हैं की अपने वनवास के क्रम में भगवान राम यहाँ आए थे।
  • छत्तीसगढ़ राज्य की स्थापना 1 नवम्बर 2000 को हुआ।
  • छत्तीसगढ़ देश का 10 वां सबसे बड़ा राज्य है।
  • छत्तीसगढ़ की सीमा देश के साथ राज्यों से सटी है।
  • जनसँख्या की दृष्टि से यह भारत का 17 वां राज्य है।
  • साल 2011 के जनगणना अनुसार छत्तीसगढ़ की कुल जनसँख्या 29436231 है।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (F.A.Q )

छत्तीसगढ़ में कितने जिले हैं?

छत्तीसगढ़ में कुल 29 जिले हैं।

छत्तीसगढ़ के प्रथम मुख्यमंत्री कौन थे?

छत्तीसगढ़ के प्रथम मुख्यमंत्री अजीत जोगी थे।

छत्तीसगढ़ राज्य को किस नाम से जाना जाता है?

छत्तीसगढ़ राज्य को छत्तीसगढ़ के नाम से ही जाना जाता है। यह मध्यप्रदेश से अलग एक पृथक राज्य बना।

आपको छत्तीसगढ़ की सपूर्ण जानकारी (INFORMATION ABOUT CHHATTISGARH IN HINDI) शीर्षक के नाम से संकलित छत्तीसगढ़ की जानकारी जरूर अच्छी लगी होगी।



Chhattisgarh hindi Wikipedia

Chhattisgarh, History, Map, Capital, Government, & Facts- Britannica


Leave a Comment